बडी खबरः कल से बंद हो जाएंगे शराब के ठेके

देहरादून। जिले में शराब के ठेकेदारों ने मांगें पूरी नहीं होने पर ठेके बंद करने की चेतावनी दी है। इसको लेकर ठेकों पर बुधवार को 15 मई से ठेके बंद रखने के बैनर लगा दिए गए हैं। हालांकि बाद में तय हुआ कि 15 मई को एक दिन ही ठेके बंद रखे जाएंगे। मांगें पूरी नहीं हुईं तो बाद में पूर्ण बंदी की जाएगी। लॉकडाउन अवधि में अन्य कारोबार की तरह शराब के ठेके भी बंद रहे। इनसे जिले में हर रोज लाखों रुपये आबकारी को राजस्व के तौर जमा किया जाता है।कुछ दिन पहले शराब के ठेके खोल दिए गए हैं। लेकिन, इनके बंद रहने के दिनों का राजस्व माफ नहीं किया गया है। साथ ही प्रमुख ब्रांड की शराब फैक्ट्रियां राज्य के बाहर हैं।
लॉडाउन के चलते वहां से ज्यादा डिमांड वाले ब्रांड की सप्लाई नहीं पहुंच पा रही है। इससे शराब ठेकेदारों को मौजूदा दिनों का राजस्व चुकाने में परेशानी आ रही है। ऐसे में शराब ठेकेदारों ने ठेके बंद रहने के दौरान का राजस्व माफ किए जाने की मांग की है। बुधवार शाम शराब ठेकेदारों ने अपनी समस्या आबकारी मुख्यालय पहुंचकर भी उठाई। यहां राजकुमार जायसवाल और आनंद सिंह बिष्ट ने ज्ञापन दिया और ठेकेदारों की समस्याएं रखीं। जिला आबकारी अधिकारी रमेश बंग्वाल ने बताया कि ठेकेदारों की मांग मुख्यालय से जुड़ी है। इसे लेकर मुख्यालय को अवगत करा दिया गया है।
शराब ठेकेदारों ने बताया कि पहले 15 से पूर्ण बंद करने की तैयारी थी। बाद में तय हुआ कि 15 को ठेके एक दिन बंद रहेंगे। इसके बाद सरकार को दस दिन का टाइम दिया जाए। समाधान नहीं हुआ तो पूर्ण बंदी की जाएगी।
हल्द्वानी में शराब पर लगाए गए कोरोना टैक्स से शराब कारोबारी भड़क गए हैं। पहले से ही घाटे में चल रहे शराब कारोबारियों ने इसे सरकार का जबरन थोपा हुआ निर्णय बताया है। इसके विरोध में शराब कारोबारियों ने 15 मई से अनिश्चितकालीन शराब की दुकानों की बंद की घोषणा कर दी है। हल्द्वानी के निजी रेस्टोरेंट में हुई बैठक में व्यवसायियों का कहना है कि उन्हें पिछले 1 महीने में दुकानें बंद होने से काफी नुकसान हुआ है। पिछले वित्तीय वर्ष का माल भी अभी तक बिका नहीं है ऊपर से सरकार उन पर कोरोना टैक्स लगाकर उनके काम धंधे को चौपट कर रही है।व्यवसायियों ने सरकार से उनकी परेशानी को समझते हुए उसका उचित हल निकालने की मांग की है ताकि वह ठीक से कारोबार कर सरकार को उचित राजस्व दे सकें। मामले में संयुक्त आबकारी आयुक्त को ज्ञापन देकर उचित कार्यवाही की मांग की है।

loading…