उत्तराखंड: ARTO के अधिकारी की कोरोना से मौत, पत्नी भी पॉजिटिव

नैनीताल: उत्तराखंड में कोरोना वायरस का कुल आंकड़ा साढ़े 7 हजार पहुंचने वाला है। एक ओर सब यही प्रार्थना कर रहे हैं कि आंकड़े न बढ़ें मगर राज्य में वर्तमान में परिस्थितियां बेकाबू दिख रही हैं। कोरोना को हल्के में लेना अब वाकई भारी पड़ सकता है। वहीं डेथ रेट में इतने तेजी से इजाफा हो रहा कि आंकड़े सुनकर आप भी चौंक जाएंगे। अबतक राज्य में कुल 83 लोग कोरोना के खिलाफ जंग हार चुके हैं। दिन प्रतिदिन कोरोना के कारण हो रही मृत्यु के आंकड़ों में इजाफा हो रहा है जिसके बाद राज्य सरकार की चिंता बढ़ती नजर आ रही है। हाल ही में एक बेहद बुरी खबर यूएसनगर के काशीपुर से सामने आ रही है। ईटीवी की खबर के मुताबिक एआरटीओ काशीपुर के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी कृष्ण राम आर्य की दिल्ली में कोरोना वायरस के उपचार के दौरान मृत्यु हो गई है। उनकी उम्र 56 वर्ष की थी और वे काशीपुर के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी थे। इस खबर से अंदाजा लगाया जा सकता है कि हालात कितने बेकाबू हैं। उनकी मृत्यु के बाद से ही उनके क्षेत्र में मातम पसरा हुआ है। एक काबिल अधिकारी का जाना राज्य के लिए काफी नुकसानदेह है। आगे पढ़िए

काशीपुर में अबतक 2 महिलाओं समेत 6 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। मूल रूप से नैनीताल जिले के रहने वाले कृष्ण राम आर्य काशीपुर के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी पद पर तैनात थे और वे अपने परिवार के साथ वैशाली कॉलोनी स्थित संस्कृति होम में किराए के मकान में रहते थे। कुछ ही दिनों पहले उनको खांसी बुखार के साथ ही सांस लेने में भी काफी तकलीफ हो रही थी, जिसके बाद 23 जुलाई को राजकीय चिकित्सालय में उनका कोरोना वायरस कराया गया जिसमें वह कोरोना पॉजिटिव पाए गए। जिसके बाद उनको हल्द्वानी रेफर कर दिया। हल्द्वानी में उनकी हालत में कोई सुधार नहीं हुआ साथ ही उनका स्वास्थ्य बिगड़ता चला गया जिसके बाद उनको तुरंत दिल्ली में रेफर कर दिया गया जहां पर बीते शनिवार को वे जिंदगी की जंग हार गए। आर्य अपने पीछे पत्नी प्रभा, पुत्र सुमित व मनीष तथा पुत्री शिखा को छोड़ गए हैं। उनकी पत्नी भी कोरोना पॉजिटिव पाई गईं थीं, स्वास्थ्य सुधरने पर उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया था। वहीं जानकारी मिल रही है कि जिस मकान में वे किराए पर रहते थे उस मकान की मालकिन और उनकी बेटी भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई हैं।

big news

loading…