अब भाकियू बोलेगी हल्ला, राकेश टिकैत का बडा ऐलान, 30 जून को…

मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन ने डीजल मूल्य में बेहताशा वृद्धि व पुलिस उत्पीड़न के विरोध में हल्ला बोलने का ऐलान किया है। भाकियू देश भर में 30 जून को तहसील मुख्यालयों पर धरना/प्रदर्शन करेगी।
भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौ राकेश टिकैत ने बयान जारी करते हुए कहा कि आज किसानों पर महँगी बिजली ,खाद, रसायन की मार के बाद डीज़ल की एक ओर मार पड़ी है। देश के इतिहास में पहली बार डीजल की कीमत पेट्रोल से ऊपर है। 2014 में महंगाई को मुद्दा बनाने वाली भाजपा आज महगाई पर चुप है। किसानों की फसलो की खरीद नही हो पा रही है। किसानों को महगाई के अनुरूप दाम नही मिल पा रहा है। किसानों को सरकार कोई राहत नही दे पा रही है। सरकार का कार्य जनकल्याण होता है सरकार विपरीत परिस्थितियों में भी जनता की जेब से टैक्स के नाम पर पैसा निकालकर खजाना भर रही है। सरकार पब्लिक लिमिटेड कंपनी की तरह कार्य कर रही है। आज डीजल पर लगभग 50 रुपए की एक्ससाइज ड्यूटी वसूली जा रही है। सरकार तेल व बिजली पर व्यापार कर रही है। पुलिस जनता की गलती पर भारी रकम वसूल रही है। सरकार का मकसद गलती सुधार नही जुर्माना वसूली है। जनता अब विरोध के लिए तैयार है। भारतीय किसान यूनियन अब चुप रहने वाली नही है। जनता के साथ अन्याय में भाकियू संघर्ष के लिए तैयार है। आगामी 30 जून को भाकियू तहसील स्तर पर डीजल मूल्य में वृद्धि, बिजली की बढ़ी दर, वाहनों पर भारी भरकम चालान, किसानों को नलकूप का सामान न मिलने आदि समस्याओं को लेकर धरना प्रदर्शन करेगी। जनता को राहत दिए जाने तक यह क्रम जारी रहेगा।

loading…