यूपी में मौसम विभाग की चेतावनी, कल 22 से 25 मई तक…

लखनऊ. अभी तक गर्मी (Heat) से मिलती चली आ रही रियायत अब खत्म होने जा रही है. मौसम विभाग (Met Department) के ताजा अनुमान के मुताबिक कल शुक्रवार 22 मई से प्रदेश भीषण गर्मी की चपेट में आ जाएगा. लगभग सभी शहरों में तापमान बढ़ता जायेगा. ये सिलसिला 25 मई तक जारी रहेगा. उसके बाद का अनुमान बाद में जारी होगा. इस दौरान लू भी चलेगी और इसके चलते दिन का तापमान तेजी से बढ़ेगा.

24, 25 मई को गर्मी होगी सबसे तेज
भीषण गर्मी का सामना अगले कुछ दिनों तक करने के लिए तैयार हो जाइये. मौसम विभाग ने बताया है कि यूपी में 22 से 25 मई तक भीषण गर्मी पड़ने वाली है. इसका सबसे ज्यादा असर बुन्देलखण्ड और आगरा में देखने को मिलेगा. मौसम विभाग ने झांसी, बांदा, हमीरपुर, उरई, जालौन और आगरा में अगले चार दिनों तक हीट वेब्स के चलने की संभावना जाहिर की है. खासकर 24 और 25 मई को तो गर्मी में और तेजी देखने को मिल सकती है.

लू से बढ़ेंगी मुश्किलें

वैसे तो झांसी, उरई और आगरा में तापमान 43 के करीब पहुंच गया था लेकिन, हीट वेव्स के चलने की संभावना अगले 4 दिनों में जाहिर की गई है. अनुमान के मुताबिक झांसी, बांदा और आगरा में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस या उसके पार जा सकता है. अलीगढ़ में भी पारा 43 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है लेकिन यहां हीट वेब्स की संभावना नहीं है.

बाकी शहरों में चढ़ेगा पारा

प्रदेश के बाकी शहरों में भले ही लू चलने का अनुमान अभी जारी नहीं किया गया है लेकिन, इन शहरों में भी तापमान में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी. लखनऊ, कानपुर, वाराणसी जैसे शहरों में तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है.

इन शहरों में 40 डिग्री सेल्सियस तक जाएगा तापमान
गोरखपुर, बरेली, मुरादाबाद और शाहजहांपुर में भी गर्मी चढ़ेगी लेकिन, राहत इतनी है कि अभी के अनुमान के मुताबिक इन शहरों में तापमान के 40 डिग्री सेल्सियस तक ही पहुंचने की गुंजाइश है. मेरठ में 25 मई को पारा 41 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है.

क्या होती हैं हीट वेव
मौसम विभाग की परिभाषा के मुताबिक जब किसी शहर का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के पार चला जाता है और जब ये सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस ज्यादा भी होता है तो इसे हीट वेव्स कहते हैं. सामान्य भाषा में इसे लू भी कहा जाता है. दौरान गर्म तेज हवाएं ज्यादा मुश्किल बढ़ाती हैं. इन्हीं दिनों में राहगीरों को लू लगने की सबसे ज्यादा संभावना होती है. पिछले सालों में गर्मी से होने वाली मौतों इन्हीं हीट वेव्स के कारण होती रही हैं. हालांकि इस साल गनीमत ये है कि लॉक डाउन की वजह से कम ही लोग घरों से निकल रहे हैं. ऐसे में इसकी आशंका कम ही है कि लू की चपेट में आने से किसी की मौत हो जाए.

loading…