प्यार के आगे फेल हुआ लॉकडाउन, 80 किमी पैदल चल मंगेतर के पास पहुंच रचाई शादी, पैरों में पड़े छाले

कन्नौज। उत्तर प्रदेश के कन्नौज में शादी में बाधा बने लॉकडाउन में सात फेरे लेने के लिए युवती अकेले ही घर से निकल पड़ी। 80 किलोमीटर पैदल सफर कर वह मंगेतर के घर पहुंची और गांव के मंदिर में शादी रचा ली। युवती के हौसले और पैरों में पड़े छाले देखकर लोग दंग रहे गए।


थाना तालग्राम के बैसापुर निवासी वीरेंद्र कुमार राठौर पुत्र रघुवीर का कानपुर देहात के मंगलपुर थानाक्षेत्र के लक्ष्मनपुर तिलक में रहने वाले मामा गौरेलाल की 20 वर्षीय बेटी गोल्डी से प्रेम-प्रसंग चलता था। जिसकी जानकारी होने पर दोनों परिवारों ने चार मई को शादी तय कर दी। लॉकडाउन के चलते शादी न होने पर गोल्डी और वीरेंद्र उदास हो गए। बुधवार सुबह करीब तीन बजे गोल्डी अकेले ही मंगलपुर गांव स्थित घर से निकल पड़ी और 80 किलोमीटर पैदल सफर तय कर बैसापुर गांव में मंगेतर के घर पहुंच गई। इसके बाद वीरेंद्र के परिजनों की सहमति से सकरवारा बगुलिहाई के प्राचीन मंदिर में दोनों के विवाह की तैयार कराई। जहां सामाजिक दूरी का पालन करते हुए पंडित कमलेश मिश्रा ने वैदिक मंत्रोच्चरण के साथ विवाह की रस्में पूरी कराई। करीब 80 किलोमीटर पैदल चलने के बाद गोल्डी के पैरों में छाले पड़ गए यह देखकर लेाग दंग रहे गए। समाजसेवी गौरव पटेल ने भी मौके पर पहुंच कर दोनों को आशीर्वाद दिया।

loading…