सुबह सुबह देशभर में अलर्ट, इन राज्यों में भारी तबाही की आशंका, अमित शाह की बडी बैठक


नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में चक्रवात ‘यास’ बनना शुरू हो चुका है जिसका असर झारखंड और बिहार में नजर आने की संभावना है. सोमवार को तूफान काफी खतरनाक हो सकता है. इस तूफान के 25 एवं 26 को पश्चिम बंगाल एवं उड़ीसा के तट से टकराने की उम्मीद है. इधर राजधानी दिल्ली में आज गरज के साथ बौछारें पड़ने का अनुमान व्यक्त किया गया है.

गृह मंत्री अमित शाह की बैठक
गृह मंत्री अमित शाह आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए ओडिशा, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्रियों और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के उपराज्यपाल के साथ बैठक करेंगे और चक्रवात यास को लेकर तैयारियों की समीक्षा करेंगे.

दिल्ली, उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़ और राजस्‍थान में धूल भरी हवाएं
मौसम विभाग के अनुसार यास तूफान के इस प्रभाव के कारण दिल्ली, उत्‍तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़ और राजस्‍थान के अधिकांश हिस्‍सों में अगले 3 दिन तक धूल भरी हवाएं चल सकतीं हैं जिसकी रफ्तार 25 से 35 किमी प्रति घंटा होगी.

बंगाल की खाडी में बना कम दबाव का क्षेत्र सोमवार को यानी आज चक्रवाती तूफान ‘यास’ में बदलकर तट की ओर बढेगा. यह चक्रवाती तूफान 26 मई की शाम तक पारादीप और सागर दीप तटों से टकरा सकता है. भारतीय मौसम विभाग की ओर से यह जानकारी दी गई है.

अगले 24 घंटे में गंभीर चक्रवाती तूफान
मौसम विभाग की मानें तो यास नाम का यह चक्रवाती तूफान 26 मई को पश्चिम बंगाल, ओडिशा और बांग्‍लादेश के तटीय इलाकों पर पहुंचेगा. इस समय बंगाल कर खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन चुका है. यह उत्‍तर-उत्‍तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है और सोमवार को इसके चक्रवाती तूफान में बदलने के आसार नजर आ रहे हैं. इसके बाद अगले 24 घंटे में यह बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में तब्‍दील हो सकता है.

बिहार में नजर आयेगा यास का असर
इसी हफ्ते अरब सागर में आये ताउते तूफान के बाद बिहार पर अब सुपर सायक्लोन यास की मार पड़ने जा रही है़ यास का असर ताउते की तुलना में ज्यादा होगा़. 25 मई की देर शाम से पूरे प्रदेश में बारिश और आंधी के आसार हैं. साथ ही बज्रपात की आशंका है़ इसका सबसे ज्यादा असर उत्तर पूर्वी बिहार पर पड़ने की आशंका है़.

झारखंड का मौसम
मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि 25 मई को राजधानी रांची सहित झारखंड के दक्षिण-पूर्वी जिलों में तेज हवा और बारिश हो सकती है. 26-27 को राज्य के लगभग सभी हिस्सों में मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है. कहीं-कहीं वज्रपात हो सकता है. इसको लेकर विभाग ने अलर्ट भी जारी किया है.

बंगाल में यास का प्रभाव
भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बंगाल की पूर्व-मध्य खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना व्यक्त की है. इससे चक्रवात की संभावना जतायी गयी है. यहां बनने वाले चक्रवात का नाम ‘यास’ दिया गया है. साथ ही यह भी संभावना जतायी गयी है कि चक्रवात तूफान में तब्दील हो सकता है. भारत मौसम विज्ञान विभाग की प्रभारी सुनीता देवी ने बताया है कि पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है.

उत्तर और दक्षिण गोवा में गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना
भारत मौसम विज्ञान विभाग का कहना है कि 24 मई को उत्तर और दक्षिण गोवा में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है.

स्काईमेट वेदर के अनुसार
स्काईमेट वेदर के अनुसार ओमान द्वारा नामित संभावित चक्रवात यास का जीवनकाल केवल 48 घंटों का होगा. इस अवधि के दौरान तूफान के गंभीर होने और उत्तर-पश्चिम की ओर ओडिशा और पश्चिम बंगाल तट की ओर बढ़ने की उम्मीद है.

बदलेगा यूपी का मौसम
ताउते के बाद अब बंगाल की खाड़ी में विकसित हो रहा चक्रवात तूफान यास उत्तर प्रदेश का मौसम बदल देगा. आने वाले 48 घंटों में प्रदेश में 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने के आसार हैं. मई के इस तरह से बदलते मौसम को देखते हुए लोग कयास लगा रहे हैं कि इस बार मानसून जल्द आ सकती है लेकिन मौसम विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि समय से पहले मानसून नहीं आएगा.