अभी अभीः BJP के इस बडे नेता की सामने आई अश्लील तस्वीरें, नाम जान चौंक जायेंगे आप


कानपुर। कानपुर में बीजेपी की मुस्किलें थमने का नाम नहीं ले रहीं है। मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष विकास दुबे की बार गर्ल के साथ अश्लील फोटो वायरल हुई है। फोटो वायरल होने के बाद राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज हो गई है। विकास दुबे दो साल पहले नेपाल टूर पर गए थे। जानकारी के मुताबिक, वायरल कथित तस्वीर ली गई थी। विकास के साथ कथित तस्वीर में नजर आ रही युवती बार गर्ल बताई जा रही है। भाजयुमो के क्षेत्रीय अध्यक्ष की आपत्तिजनक फोटो सामने आने के बाद एक बार फिर से राजनीति शुरू हो गई है।

विकास दुबे कानपुर-बुंदेलखंड के क्षेत्रीय अध्यक्ष हैं। दो साल पहले विकास दुबे, क्षेत्रीय उपाध्यक्ष संदीप ठाकुर, एक दागी इंस्पेक्टर और एक अन्य साथी के साथ काठमांडू घूमने के लिए गए थे। इस दौरान बार में ये फोटो खींची गई थी। क्षेत्रीय अध्यक्ष इसे विरोधियों की साजिश बता रहे हैं। उनका कहना है कि बदनाम करने की नीयत से फोटो को वायरल किया गया है। किसी की निजी जिंदगी में दखलंदाजी नहीं करनी चाहिए।

भाजयुमो के क्षेत्रीय अध्यक्ष विकास दुबे ने सोशल मीडिया के जरिए वीडियो जारी कहा है कि मेरी एडिट की हुई आपत्तिजनक फोटो वायरल की जा रही है। मुझे इस बात की जानकारी हो गई है कि कुछ पत्रकार बंधू किससे प्रभावित होकर फोटो डाल रहे हैं। मैं बीजेपी का 20 साल पुराना कार्यकर्ता हूं। मैं डरने वाला नहीं हूं और डटकर मुकाबला करूंगा। फोटो की फोरेंसिक जांच होनी चाहिए, यदि बिना किसी जांच के किसी ने फोटो डाली तो मैं उसके ऊपर मानहानि का मुकदमा करूंगा। मैंने प्रदेश नेतृत्व को इसकी जानकारी दे दी है।

दो गुटों में बंट चुकी थी बीजेपी
विकास दुबे की बीजेपी में जबर्दस्त पकड़ है। विकास दुबे और संदीप ठाकुर जिगरी दोस्त हैं। विकास दुबे जब 2018 में भाजयुमो के क्षेत्रीय अध्यक्ष बनाए गए तो विकास ने संदीप ठाकुर को क्षेत्रीय उपाध्यक्ष बनाया था। इसके बाद बीजेपी में दो गुट बन चुके थे। एक गुट विकास दुबे और संदीप ठाकुर था तो वहीं दूसरा गुट दक्षिण जिलामंत्री रहे नारायण सिंह भदौरिया का था। दोनों के गुट एक-दूसरे की पोल खोलने में जुटे रहते थे।

संदीप ठाकुर पर मुखबिरी का आरोप
निष्कासित बीजेपी नेता नारायण सिंह भदौरिया के जन्मदिन में पुलिस हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह को पकड़ने के लिए गई थी। नारायण सिंह भदौरिया ने अपने समर्थकों के साथ मिलकर पुलिस कस्टडी से पेशेवर अपराधी मनोज सिंह को छुड़ा लिया था। संदीप ठाकुर पर मुखबिरी करने के आरोप लगे थे। दरअसल संदीप ठाकुर और पेशेवर अपराधी मनोज सिंह में वर्चस्व की लड़ाई चलती है।

छात्र जीवन में हुए थे मुकदमे
क्षेत्रीय अध्यक्ष विकास दुबे पर छात्र जीवन से ही शहर के विभिन्न थानों में गंभीर धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं। सन् 1996 में गोविंद नगर थाने में जान से मारने का प्रयास, आर्म्स ऐक्ट में केस दर्ज हुआ था। इसके बाद विकास पर एक दर्जन से अधिक केस दर्ज होते चले गए। राजनीतिक संरक्षण मिलने के बाद विकास दुबे संदीप ठाकुर ने अपने-अपने मुकदमे खत्म करा लिए।