यूपी बॉर्डर पर इंतजार में खड़ी है कांग्रेस की 400 बसें

भरतपुर. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार और कांग्रेस के बीच विवाद बढ़ता जा रहा है. यूपी-राजस्थान बॉर्डर पर करीब 400 बसें खड़ी हैं. हालांकि, आगरा प्रशासन की ओर से बाकी बसों और गाड़ियों को आने की इजाजत दी जा रही है, लेकिन कांग्रेस की ओर से मंगाई गई बसों को यूपी में घुसने की इजाजत नहीं दी जा रही है.

यूपी-राजस्थान बॉर्डर से महज 300 मीटर की दूरी पर कांग्रेस की ओर से मंगाई गई 400 बसें खड़ी हैं. आगरा प्रशासन का कहना है कि इन बसों को प्रवेश देने का कोई आदेश अभी नहीं आया है. हालांकि, प्रशासन की ओर से ई-पास और ई-एनओसी जारी बाकी बसों और गाड़ियों को आने दिया जा रहा है.

इस बीच यूपी कांग्रेस ने एक ट्वीट करके योगी सरकार पर आरोप लगाए गए हैं. कांग्रेस ने लिखा, ‘ये तो गजब बात है. पहले बुलाया कि बसों को लेकर आओ फिर जब हमारे नेता बसों को लेकर आएं तो उन पर जगह – जगह एफआईआर करो. श्रमिकों के लिए बसें रोकने के लिए इतना सब क्या करने की जरूरत थी यूपी सरकार को. सीधे भी तो कह सकते थे.’

वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के सचिव संदीप सिंह ने यूपी सरकार को खत लिखा है. उन्होंने कहा कि कि हम कल सुबह से बसों के साथ बॉर्डर पर खड़े हैं. हमें नोएडा – गाजियाबाद की ओर जाने पर रोका गया है. साथ ही आगरा बॉर्डर पर यूपी पुलिस ने हमें रोक लिया और पुलिस ने यूपी कांग्रेस अध्यक्ष अजय लल्लू के साथ दुर्व्यवहार किया.

पत्र में कहा गया है कि आज शाम 4 बजे तक हम यहीं डटे रहेंगे. अभी भी नोएडा के महामाया फ्लाईओवर के नीचे 100 बसें खड़ी हैं, जिनकी जांच नोएडा पुलिस कर रही है. वहीं आगरा-भरतपुर बॉर्डर पर करीब 400 बसें खड़ी हैं, जिसे आगरा प्रशासन उत्तर प्रदेश में घुसने नहीं दे रही है.

loading…