अभी-अभी: राजस्थान संकट पर आई बड़ी खबर, 31 जुलाई को…

जयपुर: शनिवार के दिन भर के भारी मंथन के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा सत्र 31 जुलाई से बुलाने का प्रस्ताव राज्यपाल को भेज दिया है. राजस्थान की सरकार विधानसभा में कोरोना पर चर्चा करना चाहती है.

सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को ही रात कैबिनेट से इसका अनुमोदन करा लिया था मगर कल दिनभर कानून भी दो से चर्चा की गई और उसके बाद सरकार ने प्रस्ताव भेजा है, जिसमें कहा गया है कि राज्य में 6 बिलों को विधानसभा में पेश करना है.

विधानसभा सत्र बुलाने के एजेंडे को लेकर सरकार ने स्पष्ट किया है कि यह बिजनेस एडवाइजरी कमिटी तय करती है लेकिन फिलहाल हम 6 बिल विधानसभा में पेश करेंगे. सूत्रों के अनुसार, सरकार ने यह भी लिखा है कि सरकार के पास संवैधानिक अधिकार होता है कि वह सत्र बुलाए और अल्प अवधि में पहले भी राज्यपाल दो बार सत्र आहूत की गई है.

माना जा रहा है कि अशोक गहलोत सत्र बुलाकर के बिल के जरिए व्हिप जारी कर सचिन गुट के 19 विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष से अयोग्य साबित करा देंगे और उसके बाद सदन में विधायकों की कुल संख्या कम हो जाएगी तो भी सरकार बहुमत में ही रहेगी जाएगी.

इसके बाद गहलोत सरकार सदन में बहुमत साबित कर देगी. दूसरी ओर कांग्रेस की ओर से आज सोशल मीडिया पर स्पीकर अभियान चलाया जाएगा और कल देशभर के राज दोनों के घेराव का निर्णय लिया गया है.

Trending Posts

loading…