अभी अभी: कोरोना कहर के बीच राजस्थान में अनलाॅक को लेकर बड़ी खबर, इस तारीख से…

जयपुर: मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद गृह विभाग ने प्रदेश में शहरी क्षेत्रों में धार्मिक स्थलों को खोलने के आदेश जारी कर दिए हैं. कुछ शर्तों के साथ मंदिर और अन्य धार्मिक क्षेत्र खोलने की अनुमति दी गई है. धार्मिक स्थलों पर फूल माला, प्रसाद लेने और यहां तक घंटी बजाने पर भी पाबंदी रहेगी.

प्रदेश में लॉकडाउन के साथ ही करीब पांच महीने से प्रदेश के मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च आदि धार्मिक स्थल भी आम श्रद्धालुओं के लिए बंद थे. सरकार ने धार्मिक स्थलों की स्थिति की समीक्षा के बाद 7 सितम्बर से खोलने का निर्णय लिया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार रात इसकी घोषणा भी की थी. इसके बाद गृह सचिव की ओर से धार्मिक स्थल खोलने के आदेश भी जारी कर दिए गए.

इन शर्तों और प्रॉटोकाल का करना होगा पालन

कंटेनमेंट जोन-कर्फ्यू क्षेत्र में धार्मिक स्थल नहीं खोले जाएंगे.
ऐसे धार्मिक स्थल जहां स्थानीय लोगों के साथ दूसरे जिलों के श्रद्धालु भी दर्शन के लिए आते हैं, वहां संयुक्त टीम निरीक्षण करेगी.
कलेक्टर-एसपी, सीएमएचओ की टीम के निरीक्षण के बाद ही धार्मिक खोले जा सकेंगे.
धार्मिक स्थल में फूलमाला, प्रसाद, पूजा सामग्री ले जाने और घंटी बजाने पर भी रोक रहेगी.
श्रद्धालुओं पर पवित्र जल छिड़काव पर भी पाबंदी रहेगी.
धार्मिक स्थलों में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करनी होगी.
मस्जिदों में नमाज के दौरान नमाजियों की संख्या और उपलब्ध स्थान का ध्यान रखा जाएगा.
धार्मिक स्थलों पर पुजारियों के साथ दर्शनार्थियों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा. बिना मास्क वाले व्यक्ति को प्रवेश नहीं दिया जाएगा.
धार्मिक स्थलों के प्रवेश-निकास दरवाजों पर थर्मल स्केनिंग, हैंडवॉश और सैनेटाइजर की व्यवस्था की जाएगी.
धार्मिक स्थल के परिसर और फर्श, रैलिंग-दरवाजे के हैंडल को बार बार सेनेटाइज किया जाएगा.
बड़े धार्मिक स्थलों पर भीड़ जुटने से रोकने के लिए आरती के ऑनलाइन दर्शन के लिए प्रेरित किया जाएगा.
धार्मिक आयोजनों, जुलूसों पर पाबंदी पहले की तरह ही जारी रहेगी.
इन शर्तों की पालना नहीं होने पर जिला कलेक्ट या अधिकृत अधिकारी धार्मिक स्थल को बंद करा सकेगा.

ये भी पढेंः खबरें हटके

big news

loading…


Trending Posts