अभी अभीः राजस्थान पर बडा हमला, एक दिन में ही करोडों का नुकसान

जयपुर। पाकिस्तान से आए टिड्डियों ने भारत की मुश्किलों को और बढ़ा दिया है. राजस्थान की राजधानी जयपुर में टिड्डियों के हमले ने इस साल लाखों हेक्टेयर में फैली फसलों को बर्बाद कर दिया है.

इन टिड्डियों ने जयपुर को भी नहीं बख्शा. सोमवार को जयपुर में लाखों टिड्डों को झुंड में देखा गया, जिससे लोग परेशान हैं. हज़ारों मील की दूरी तय करने वाले ये टिड्डे सऊदी अरब – पाकिस्तान के रास्ते जयपुर पहुंचे हैं.

टिड्डियों का यह दल पहले ही पश्चिमी और पूर्वी राजस्थान में कम से कम 500000 हेक्टेयर भूमि में फैली फसलों को नष्ट कर चुका है. टिड्डियों द्वारा बड़े पैमाने पर हमले से श्री गंगानगर, जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर, जोधपुर, चूरू, नागौर, अजमेर, जयपुर और दौसा जैसे जिले बुरी तरह प्रभावित हैं.

टिड्डियों ने पहले ही बीते तीन महीनों में सैकड़ों हेक्टेयर भूमि पर लगी फसलों को नष्ट कर दिया है. पश्चिमी राजस्थान के श्री गंगानगर, बीकानेर और बाड़मेर जिलों में इस साल रबी फसलों से भरे हरे-भरे खेतों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाया है. राजस्थान के 12 जिले इनसे बुरी तरह प्रभावित हैं.

टिड्डियों के प्रभाव को बेअसर करने के लिए रसायनों का छिड़काव भी किया गया था, जिसमें कृषि मंत्रालय के अधिकारी भी शामिल थे. हालांकि इससे कोई खास फायदा नहीं हो रहा है. राजस्थान में लंबे समय के बाद बंपर फसल हुई थी लेकिन इन टिड्डियों ने सब बर्बाद कर दिया.

एक अनुमान के मुताबिक, पिछले 11 महीनों में पाकिस्तान से पश्चिमी राजस्थान में आए इन टिड्डियों के बड़े पैमाने पर हमले के कारण गेहूं और अन्य रबी फसलों को नुकसान पहुंचा है. इनकी वजह से तीन लाख हेक्टेयर में फसलों को नुकसान पहुंचा है.

अनूपगढ़ में 25 बीघा जमीन के मालिक जसकरन सिंह ने इंडिया टुडे को बताया कि, इस साल के शुरुआत में इन टिड्डियों की वजह से गेहूं और मटर की पूरी फसल बर्बाद हो गई.

उन्होंने कहा, “मैंने मां अमरजीत कौर के नाम पर 900000 रुपये का कर्ज लिया था, लेकिन अब फसल नष्ट हो गई है, मुझे नहीं पता कि कर्ज कैसे चुकाऊंगा.” जसकरन चाहते हैं कि सरकार उनके नुकसान की भरपाई करे.