शामली में कोरोना मरीज पाए जाने के बाद मोहल्ला सील करने को लेकर हंगामा

शामली। नगर के मौहल्ला आर्यपुरी में पुलिस प्रशासन द्वारा घोषित किए गए हॉट स्पॉट पर बैरिकेटिंग किए जाने को लेकर हिन्दू वादी संगठन के पदाधिकारी द्वारा चार घंटे तक हंगामा किया गया। हंगामे के चलते देर रात्रि तक भी बैरिकेटिंग का कार्य पूरा नही किया जा सकता था। सोमवार को उप जिलाधिकारी व सीओ सिटी ने हॉट स्पॉट का निरीक्षण कर बैरिकेटिंग का सही ठहराया है। वही उक्त संगठन के पदाधिकारी द्वारा हंगामा करते हुए पुलिसकर्मियों पर भी रिश्वतखोरी जैसे गंभीर आरोप लगाया गए है और पुलिस को अपना कर्जदार भी बताया है।
नगर के मौहल्ला आर्यपुरी में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद जिला प्रशासन ने मौहल्ले को हॉट स्पॉट की श्रेणी में ले लिया है। नियम अनुसार हॉट स्पॉट मौहल्ले में मरीज के घर के आसपास की बैरिकेटिंग कराते हुए सीलिंग कराई जाती है। आर्यपुरी में भी रविवार देर शाम पुलिस प्रशासन की टीम मौहल्ला आर्यपुरी में बैरिकेटिंग करने के लिए पहुंच गई। शहर के वीवी इंटर कालेज रोड की ओर से पुलिस प्रशासन ने बिना किसी विरोध के बैरिकेटिंग का कार्य किया, लेकिन जैसे ही पुलिस प्रशासन की टीम हॉट स्पॉट के दूसरे छोर पर बैरिकेटिंग करने पहुंची तो हिन्दू वादी संगठन के पदाधिकारी ने अपने परिजनो के साथ बैरिकेटिंग किए जाने का विरोध शुरू कर दिया। हिन्दूवादी संगठन का पदाधिकारी अपने घर को छोडकर बैरिकेटिंग कराने के लिए मौके पर मौजूद पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों दबाव बनाते हुए कई तरह के आरोप लगाता रहा। जबकि बैरिकेटिंग करने वाली टीम का कहना था कि एसडीएम शामली के दिशा निर्देशों के चलते प्रशासन द्वारा चिन्हित किए गए स्थान पर ही बैरिकेटिंग की जा रही है। अपने को भी बैरिकेटिंग के दायरे में लेने पर हिन्दूवादी संगठन के पदाधिकारी ने पुलिसकर्मियों को रिश्वतखोर व अपना कर्जदार बताते हुए खरी खोटी सुनाते हुए दबाव में लेने का प्रयास किया, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों से वार्तालाप के बाद किसी भी प्रकार के दबाव को न मामते हुए चिन्हित स्थान पर ही बैरिकेटिंग की गई। रविवार देर शाम शुरू हुई केवल तीन स्थानों पर की जाने वाली बैरिकेटिंग आधी रात तक जाकर पूरी हुई। सोमवार को डीएम व एसपी के निर्देश पर एसडीएम संदीप कुमार, सीओ सिटी जितेन्द्र कुमार आर्यपुरी स्थित हॉट स्पॉट क्षेत्र में पहुंचे और बैरिकेटिंग किए गए स्थानों का निरीक्षण करते हुए नागरिकों से समस्याओं की भी जानकारी ली और बताया कि किसी को भी प्रशासनिक कार्य में बाधा नही डालने दी जायेगी। सबसे पहले सुरक्षित होना है और आर्यपुरी हॉट स्पॉट में मानक के अनुरूप ही बैरिकेटिंग कराई गई है। विरोध किया जाना उचित नही है।

शामली के कांग्रेसियों ने भी दिया ज्ञापन, उठाई ये मांग…

शामली। जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने 69 हजार शिक्षक भर्ती एवं पशुपालन विभाग में हुए घोटाले की जांच उच्च न्यायालय में वर्तमान न्यायाधीश द्वारा कराए जाने की मांग को लेकर प्रदेश के राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी शामली को सौंपा।
सोमवार को जिला कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने प्रदेश के राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी जसजीत कौर को सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि पिछले दिनों उत्तर प्रदेश में लगातार घोटालों की खबरें आ रही हैं। युवाओं में बढ़ती बेरोजगारी के बावजूद शिक्षक भर्ती के 69000 पद घोटालों की भेंट चढ़ गए हैं। यूपी में भाजपा सरकार की नाक के नीचे कई सारी भर्तियां अटकी हुई है। लाखों युवा परीक्षाओं की तैयारी कर परीक्षाएं देते हैं और नौकरी लगने का इंतजार करते हैं। उन्होंने कहा कि हाल ही में शिक्षकों की भर्ती और पशु पालन विभाग में व्यापक स्तर पर भ्रष्टाचार हुआ है। भ्रष्टाचार में कई सारे भाजपा नेताओं का नाम सामने आया है। मंत्रियों के प्रतिनिधियों के नाम घोटाले उजागर हुए, जिसमें भाजपा सरकार बड़े नेताओं और अधिकारियों को बचा रही है। जिस कारण यूपी में तमाम भर्तियों को सरकार ने लटका कर रखा है। उन्होंने कहा कि घोटाले में लिप्त विभाग के मंत्रियों को तत्काल बर्खास्त किया जाए। घोटाले में लिप्त विभाग के मंत्रियों के प्रतिनिधियों की तत्काल गिरफ्तारी सुनिश्चित की जाए। पूरे प्रकरण की जांच उच्च न्यायालय के वर्तमान न्यायाधीश से कराई जाए और जनता के सामने सच लाया जाए। शिक्षक भर्ती घोटाले में न सिर्फ बड़े पैमाने पर धांधली हुई है बल्कि चयन प्रक्रिया में भी आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के साथ नाइंसाफी की गई है। इस को सुरक्षित रखने की गारंटी दी जाए। प्रदेश में हुए अन्य घोटालों जैसे पीडीएस जूता मोजा घोटाला आदि की भी जांच की जाए। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष दीपक सैनी, धर्मेंद्र काम्बोज अनुज गौतम आदि मौजूद रहे है।

शामली में रालोद ने उठाई किसानों की समस्याओं के समाधान की मांग

शामली। रालोद छात्र सभा के पदाधिकारियों ने प्रदेश के राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम सदर को सौंपा। जिसमें उन्होंने किसानों की विभिन्न समस्याओं का समाधान कराए जाने की मांग की है।
सोमवार को रालोद छात्र सभा के पदाधिकारियों ने शामली कलेक्ट्रेट पहुंचकर प्रदेश के राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम सदर संदीप कुमार को सौंपा। जिसमें उन्होंने गन्ने का भुगतान ब्याज सहित कराने किसानों के कर्ज माफ करने, केसीसी की लिमिट दोगुनी करने और उस पर ब्याज 1ः लेने की मांग की। उन्होंने बिजली के बिल माफ करने, लॉकडाउन के दौरान हर तरीके रिकवरी पर रोक लगाए जाने, सरकार किसानों को दी जाने वाली सम्मान राशि 6 हजार से बढ़ाकर 30 हजार करने की मांग की। उन्होंने ओलावृष्टि में फसलों को नुकसान की भरपाई करने, प्रवासी मजदूरों, ऑटो चालको, रिक्शा चालकों, रेडी वाले, ठेला लगाने वाले, छोटे दुकानदार को हर माह नगद कम से कम 10 हजार की सहायता राशि प्रदान करने और उनकी वजह से प्राइवेट डॉक्टरों के नर्सिंग होम को सभी बीमारियों का इलाज कराने की परमिशन देने, प्रवासी मजदूरों को रोजगार की व्यवस्था कराने कोरोना की वजह से नवजात बच्चों के टीकाकरण का कार्यक्रम जारी करने, गेहूं की खरीद का अभी तक किसानों को भुगतान नहीं हुआ। जिसका भुगतान कराए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जो ईएमआई जमा कराने की छूट दी गई है। उस पर ब्याज माफ किया जाए। लॉकडाउन के दौरान सरकार ने मकान मालिकों से किराया न देने की अपील की थी उन मकान मालिकों से किराए की व्यवस्था भी सरकार द्वारा कराई जाए। लॉक डाउन के दौरान सरकार स्कूलों के 3 महीने की फीस का वह स्वयं उठाएं और इसका भार अभिभावकों पर ना डाला जाए आम की फसल सरकार खुद खरीदे। जिससे आम की फसल को बेचने के लिए किसान को दर-दर न भटकना पड़े। डीजल पेट्रोल की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाया जाए। जिससे आम जनता पर महंगाई का बोझ ना पड़े। इस अवसर पर जिला महासचिव राजन जावला, मुबारक अली, सचिन चौधरी, मोनू पंवार, अशोक कुमार आदि मौजूद रहे।

कोरोना महामारी आपदा राहत पैकेज दिए जाने की मांग

शामली। माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर वित्तविहीन शिक्षकों को करोना महामारी आपदा राहत पैकेज दिए जाने की मांग की है।
सोमवार को माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को ज्ञापन सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के आह्वान पर वित्तविहीन शिक्षकों को कुरौना आपदा राहत पैकेज व अन्य समस्याओं के निराकरण के लिए मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन आगामी 29 जून को दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वित्तविहीन शिक्षकों के सम्मुख इतनी भीषण समस्या इससे पहले कभी नहीं आई। संगठन के पदाधिकारी एवं शिक्षक सामाजिक दूरी का पालन करते हुए शिक्षकों की समस्याओं को लेकर एक ज्ञापन देंगे। उन्होंने जिलाधिकारी से शिक्षकों की समस्याओं को समझते हुए समाधान कराए जाने की मांग की है। इस अवसर पर श्रवण कुमार भार्गव, रेणुका भार्गव, दिनेश चंद शर्मा, आदि मौजूद रहे।

loading…