लॉकडाउन के बाद पहली बार 1100 श्रमिकों को लेकर मुजफ्फरनगर पहुंची यह ट्रेन, ऐसा था नजारा…देखें तस्वीरें

मुजफ्फरनगर। लॉकडाउन लागू होने के बाद आज पहली बार एक श्रमिक ट्रेन करीब 1100 श्रमिकों को लेकर मुजफ्फरनगर स्टेशन पहुंची। इस दौरान वहा जिला प्रशासन तथा पुलिस की ओर से सोशल डिस्टेंस का पालन कराने आदि की पूरी व्यवस्था की गई थी। ट्रेन करीब 12 घंटे के विलंब से मुजफ्फरनगर पहुंची।


प्रवासी मजदूरों को ट्रेन द्वारा उनके गंतव्य पहुंचाने की कड़ी में एक श्रमिक ट्रेन आज एक विशेष ट्रेन जनपद मुजफ्फरनगर में महाराष्ट्र जनपद के दौंड रेलवे स्टेशन से चलकर पहुंची, जिसमें सवार होकर उत्तर प्रदेश के 47 जिलों के करीब 1100 यात्री मुजफ्फरनगर स्टेशन पहुंचे। इनमें जनपद मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना क्षेत्र के एक गांव के 9 निवासी भी शामिल है। प्रवासी मजदूरों को लेकर प्रशासन सहित रेलवे के अधिकारियों ने पूरी तैयारी कर ली थी इसी कड़ी में कुछ कर्मचारियों को आपातकालीन सेवा के लिए बुलाया गया था। पुलिस अधीक्षक नगर सतपाल अंतिल भी ट्रेन आने से पहले ही भारी फोर्स के साथ स्टेशन पहुंच गए थे।


कोविड-19 के प्रकोप के बीच फसे प्रवासी मजदूरों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने का ट्रेन द्वारा कार्य लगातार जारी है। इसी कड़ी में आज उत्तर प्रदेश के 47 जनपदों के 1101 यात्रियों को लेकर एक श्रमिक स्पेशल ट्रेन जनपद मुजफ्फरनगर में पहुंची। यह श्रमिक स्पेशल ट्रेन महाराष्ट्र के दौंड स्टेशन से चलकर जनपद मुजफ्फरनगर पहुंची। यह खाली ट्रेन दिल्ली के लिए प्रस्थान कर जाएगी। वहीं दूसरी ओर रेलवे सूत्रों ने बताया कि इस ट्रेन में 1101 यात्रियों में जनपद मुजफ्फरनगर के कस्बा बुढाना के हुसैनपुर कलां के एक ही परिवार के 9 सदस्य शामिल है, जिनके नाम ताहिर शाह, भानु ताहिर, तहसीन ताहिर, सरगम ताहिर, फरीदा ताहिर, महक ताहिर, मुस्कान ताहिर व स्याना ताहिर शामिल है। इसके अलावा बताया गया कि अन्य 46 जिलों में रायबरेली के 6, रामपुर के 12, संत कबीर नगर के 21, श्रावस्ती जनपद के चार, सिद्धार्थनगर के 52, सीतापुर के 15, सोनभद्र के 13, सुल्तानपुर के 3, उन्नाव के 21, वाराणसी के चार, बिजनौर के 48, आगरा के 20, अयोध्या के 6, आजमगढ़ के 29, बागपत के दो, बहराइच के 60, बलिया के 17, बलरामपुर के 10, बाराबंकी के दो, बरेली के चार, बस्ती के 32, भदोही के 86, चंदौली के 3, चित्रकूट के 11, देवरिया के 50, इटावा का एक, फिरोजाबाद के 5, फतेहपुर के 40, गाजियाबाद के 5, गाजीपुर के 14, गोंडा के 35, गोरखपुर के 72, हरदोई के 47 , जौनपुर के 12, झांसी के 11, कानपुर के 10, कौशांबी के 6, कुशीनगर के 66, लखनऊ के 24, महाराजगंज के 19, मैनपुरी के दो, मऊ के 7, मिर्जापुर के 13, प्रतापगढ़ के 6 व प्रयागराज के156 शामिल है। रेलवे सूत्रों ने बताया कि सभी 1101 यात्रियों को मुजफ्फरनगर में ही क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। उसी के उपरांत सभी यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा। प्रवासी मजदूरों को लेकर प्रशासन सहित रेलवे की ओर से पूरी तैयारी कर ली गई है। इसी कड़ी में रेलवे के कुछ कर्मचारियों को आपातकालीन सेवा के लिए बुलाया भी गया है। 2117 किलोमीटर की दूरी तय कर 24 डिब्बों की यह ट्रेन आज करीब 12 घंटे की देरी से मुजफ्फरनगर पहुंची।

loading…