अभी-अभीः शामली में तीन ओर कोरोना मरीज मिलने से मचा हडकंप, सील होंगे ये एरिया, डीएम-एसपी ने की बडी अपील


शामली। शामली जनपद में मंगलवार को तीन और नए संक्रमित मरीज मिले हैं। जनपद में अभी तक 91 लोगों को संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। इनमें से 49 मरीज ठीक हो चुके हैं। अब जिले में सक्रिय केस 42 हो गए हैं।
मेरठ मेडिकल से आई सैंपलों की रिपोर्ट में कोरोना के तीन नए केस कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें एक व्यक्ति झिंझाना रोड कृष्णा नगर शामली का निवासी है। एक युवक शामली क्षेत्र के गांव लांक का और तीसरा युवक कस्बा कैराना के मोहल्ला पीरजादगान का निवासी हैं। प्रशासन तीनों मरीजों को कोविड 19 हॉस्पिटल भिजवाने के बाद मरीजों से संबंधित क्षेत्रों को सील कराने की कार्यवाही में जुट गया है।
कोरोना वायरस महामारी के दृष्टिगत जिलाधिकारी जसजीत कौर एवं पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल ने जिले के लोगो से अकारण घरों से बाहर न निकलने की अपील की है। उन्होने कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करने पर कडी कार्यवाही करने की भी चेतावनी दी है।
मंगलवार को जिलाधिकारी जसजीत कौर व पुलिस अधीक्षक विनीत जयसवाल ने जिले के लोगों से अपील की कि कोरोना वायरस के संक्रमण का प्रसार एनसीआर के जिलो में प्रतिदिन बढ़ रहा है। जनपद शामली भी एनसीआर क्षेत्र में पड़ता है। जनपद शामली की जनता की सजगता की वजह से कोरोना वायरस का संक्रमण जनपद शामली में कुछ हद तक नियंत्रण में रहा है, लेकिन कुछ दिनों से जनपद शामली में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। जिस कारण हम सब को इस ओर ध्यान आकृष्ट करने की आवश्यकता है। उन्होने कहा कि बिना किसी जरूरत के घर से बाहर ना निकले। यदि अपरिहार्य कारणों से घर से बाहर निकलना जरूरी है तो फेस-मास्क, फेस-कवर, गलव्ज का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें। बाहर निकलते समय सोशल डिस्टेसिंग का अनुपालन किया जाए। हेण्ड सेनेटाइजर का प्रयोग करें या अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोते रहें।
दुकान मालिक अपनी दुकानों पर एक समय में 5 से अधिक ग्राहकों को एकत्रित न होने दें। दुकान पर हेण्ड सेनेटाईजर की व्यवस्था अनिवार्य रूप से रहें। सोशल डिस्टेसिंग बनाये रखने के लिए दुकानों पर पक्के पेंट से गोले बनवा लिये जाए।
जो ग्राहक मास्क ना लगाये हो उसे सामान विक्रय ना किया जाए। दुकान मालिक तथा दुकान में काम करने वाले व्यक्ति फेस-मास्क गलव्ज का प्रयोग अनिवार्य रूप से करें। दुकानों के सामने वाहनों की पार्किंग ना होने दी जाए तथा विक्रय किये जाने वाला सामान दुकान के बाहर सड़क पर ना रखा जाए। सभी के द्वारा आरोग्य-सेतु एवं आयुष-कवच कोविड ऐप को अपने स्मार्ट फोन में डाउनलोड किया जाए तथा दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित किया जाए। यदि कोई समस्या है तो जिला प्रशासन को सूचित किया जाये। उन्होने चेतावनी दी कि यदि कोई भी व्यक्ति कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन करता है तो आपदा प्रबन्धन अधिनियम, 2005 की धारा 51 से 60 तथा भारतीय दण्ड विधान की धारा-188 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध माना जाएगा।
वहीं इससे पहले सोमवार को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शामली के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती एक युवक की मौत हो गई थी। परिजनों ने इलाज में लापरवाही और देखभाल न करने का आरोप लगाते हुए रोष व्यक्त किया था। स्वास्थ्य विभाग ट्रू नॉट मशीन से जांच कराई, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया था। बाबरी क्षेत्र के गांव बुटराड़ा निवासी 35 वर्षीय टैक्सी चलाने का काम करता था। वह हरियाणा के बल्लभगढ़ से तीन-चार दिन पहले लौटा था। रविवार को उसे सांस लेने में परेशानी और हल्का बुखार होने पर सीएचसी शामली के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था। कोरोना की जांच के लिए उसका सैंपल मेरठ लैब भेजकर डाक्टरों ने उपचार शुरू कर दिया था। सोमवार सुबह युवक की हालत बिगड़ने पर उसे सीएचसी के इमरजेंसी में भेजा और हालत ज्यादा नाजुक होने पर उसे एंबुलेंस से शहर के निजी अस्पताल में बनाए कोविड केयर सेंटर भिजवाया, लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। इसके बाद शव सीएचसी लाया गया। युवक के परिजनों ने इलाज में लापरवाही, सही देखभाल न करने, पानी और खाना समय न देने जैसे गंभीर आरोप लगाते हुए स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ रोष व्यक्त किया। इस दौरान सीएचसी परिसर में हंगामे की स्थिति बन गई। पुलिस भी सीएचसी पहुंची। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने परिजनों को समझाकर शांत किया। ट्रू नॉट मशीन से कोरोना की जांच कराने पर रिपोर्ट निगेटिव आई।

loading…