महिला ने बिजली विभाग के अफसर पर लगाया बदनीयती का आरोप, कनेक्शन काटने के बदले मांग रहा है इज्जत…


शामली। झिंझाना क्षेत्र के गांव खोडसमा निवासी एक महिला ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर विद्युत विभाग के एसडीओ पर विद्युत कनेक्शन समाप्त करने की एवज में रिश्वत मांगने व शारीरिक इज्जत की दावत देने की मांग करने का आरोप लगाया है। पीड़िता ने मामले में जांच कर कार्यवाही किए जाने की मांग की है।
झिंझाना क्षेत्र के गांव खोडसमा निवासी महिला ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि गत 12 जुलाई 2014 को उसने गांव खोड सामा में घरेलू विद्युत कनेक्शन लिया था। जिसके बाद पिता की तबीयत खराब होने के कारण वह अपने मायके भनेड़ा एलम में चली गई थी। जिस कारण गांव खोडसमा में विद्युत मीटर का कोई उपयोग नहीं रहा। गत 20 सितंबर 2014 को विद्युत कनेक्शन समाप्त करने की मांग की गई। ग्राम प्रधान द्वारा भी अपने लेटर पैड पर यह संस्कृति की गई कि पीड़िता ग्राम छोड़कर अपने मायके चली गई है। जिस कारण विद्युत कनेक्शन इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है। आरोप है कि गत 26 अगस्त 2020 को एक प्रार्थना पत्र एवं शपथ पत्र के माध्यम से कनेक्शन को समाप्त करने के लिए दिया गया था। जिसके बाद एसडीओ ऊन पंकज राठौर द्वारा 10 हजार की बतौर रिश्वत मांगी गई। महिला का आरोप है कि रिश्वत न देने की स्थिति में शारीरिक इज्जत की भी दावत देने को बोला गया। पीड़िता ने मामले में जांच कर उक्त एसडीओ के खिलाफ कानूनी कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

शामली में बंद मकान का बिल आया 1.38 लाख
शामली। एक व्यक्ति ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर 4 साल से बंद मकान मालिक को करीब 1 लाख 38 हजार का विद्युत बिल भेजने का आरोप लगाया है। पीड़ित ने मामले में जांच कर कार्यवाही किए जाने की मांग की है।
बुधवार को कस्बा बनत के मोहल्ला हकीकत नगर निवासी तारा पुत्र जग्गा ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि वह एक भट्टा मजदूर है। जो पिछले 4 सालों से अपना मकान बंद कर मजदूरी करने के लिए दूसरे राज्य गया हुआ था। इस दौरान मकान बंद था, लेकिन मकान में लगे विद्युत मीटर का विद्युत विभाग के अधिकारियों द्वारा करीब एक लाख 38 हजार का बिजली बिल भेज दिया गया। जिसको वह भरने में सक्षम नहीं है। पीड़ित ने मामले में जांच करते हुए उक्त बिल को माफ कराए जाने की मांग की है।

राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा एक वेबीनार का आयोजन
शामली। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की जानकारी जन जन तक पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा एक वेबीनार का आयोजन किया गया। जिसमें देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भाग लेते हुए शिक्षा नीति के लाभ पर विस्तार से प्रकाश डाला।
बुधवार को राष्ट्रीय सेवा योजना शामली के सह जिला नोडल अधिकारी डा. भूपेंद्र कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की जानकारी जन जन तक पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा एक वेबीनार का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, शिक्षामंत्री पोखरियाल रहे। इस दौरान युवा एवं खेल मंत्रालय के मंत्री किरन रिजिजू ने नई शिक्षा नीति के बदलाव के बारे में बताया। उन्होने कहा कि नई शिक्षा नीति भारत के विकास में सहायत होगी। नई शिक्षा नीति में बच्चों को पढ़ाई के साथ साथ कौशल विकास पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। कार्यक्रम में नई शिक्षा नीति 2020 पर तमिल, मलयालम, हिंदी, अंग्रेजी आदि कई भाषाओं में बुकलेट जारी की गई। बताया गया कि शिक्षा नीति में 5 वर्षों तक हर क्षेत्र के विद्वानों के विचारों को समाहित किया गया है। कार्यक्रम में क्षेत्रीय निदेशक उत्तर प्रदेश डा. अशोक श्रुति, राज्य संपर्क अधिकारी डा. अंशुमाली शर्मा, डा. वीरेंद्र सिंह, डा. अजय बाबू शर्मा आदि मौजूद रहे।

Trending Posts

loading…