SBI अलर्ट! इन एप्स का भूलकर भी न करें इस्तेमाल, वरना अकाउंट बैलेंस हो जाएगा

नई दिल्ली: कोरोनाकी दूसरी लहर के चलते एक बार फिर लोगों ने कैश मनी से प्लास्टिक मनी की ओर शिफ्ट किया है, जो जितना सुरक्षित है उतना ही रिस्की भी. ऐसे में अपने कस्टमर्स को किसी भी तरह के ऑनलाइन फ्रॉड से बचाने के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने नया नोटिफिकेशनजारी किया है, जिसके बारे में आपको जानना बेहद जरूरी है.

बैंक ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘हम अपने ग्राहकों से आग्रह करते हैं कि वे अपने बैंकिंग विवरणों की जानकारी किसी के साथ साझा न करें और ना ही किसी को फोन या कम्प्यूटर के माध्यम से अपने बैंक खाते तक पहुंचने दें. सतर्क रहें. सुरक्षित रहें. अगर आप कोई आपातकालीन फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं, तो हमारे डिजिटल बैंकिंग ऐप्स जैसे Yono और BHIM की सेवाओं का घर बैठे उपयोग कर सकते हैं.’

दरअसल, कोरोना काल में बैंक फ्रॉड के मामलों में तेजी आई है. लोगों को चूना लगाने के ठग लिए आए दिन नए तरीके अपनाते हुए फेक मनी ट्रांसफर ऐप और फेक बैंक अधिकारी बनकर कॉल कर रहे हैं. इसी को देखते हुए SBI ने अपने ग्राहकों से SMS, ई-मेल व सोशल मीडिया के जरिए फेक कॉल से सावधान रहने के लिए कहा है.

बैंक ने वीडियो शेयर करते हुए बताया, आजकल ये ठग, ग्राहकों से केवाईसी डॉक्‍युमेंट मांगने के अलावा Quick View ऐप के जरिए उनके स्‍मार्टफोन को एक्‍ससे करने की कोशिश करते हैं. अगर कोई ग्राहक इनके इस जाल में फंस जाता है तो ये उनके स्‍मार्टफोन से केवाईसी के नाम पर सभी संवेदनशील और प्राइवेट जानकारी चुरा लेते हैं. इसमें ग्राहक के आकउंट आईडी, पासवर्ड समेत अन्‍य जरूरी जानकारियां होती हैं.

ठगी से बचने के लिए आपको बस सावधान रहना है. अगर आपको भी ऐसा कोई कॉल आता है तो इन जालसाजों के झांसे में न आएं और कॉल कट करने उस नंबर को ब्‍लॉक कर दें. साथ ही आपको यह भी ध्‍यान रहे कि किसी भी अनजाने व्‍यक्ति को अपने फोन, कम्‍प्‍यूटर या लैपटॉप का quciकंट्रोल न दें. किसी भी व्‍यक्ति से अपनी निजी जानकारी का आदान प्रदान न करें.