शामली में पेट्रोल डीजल की कीमतों में बढोत्तरी के खिलाफ सडकों पर उतरा विपक्ष, कपडे उतारकर किया प्रदर्शन


शामली। समाजवादी पार्टी युवजन सभा के पदाधिकारियों ने देश में बढ़ते डीजल और पेट्रोल के दामों पर रोक लगाए जाने की मांग को लेकर प्रदेश के राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी जसजीत कौर को सौंपा, जिसमें उन्होंने पेट्रोल डीजल की कीमतों को वापस न लिए जाने पर आंदोलन करने की भी चेतावनी दी है।
सोमवार को समाजवादी पार्टी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष चौधरी राशिद पहलवान के नेतृत्व में सपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश के राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी जसजीत कौर को सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल के दाम जिस तरह से पढ़ रहे हैं इससे आम आदमी के ऊपर विपरीत असर पड़ रहा है। लॉकडाउन के कारण पहले से ही आम आदमी खस्ता हालात में जीवन यापन कर रहा है और डीजल व पेट्रोल के दामों में अनावश्यक बढ़ोतरी होने से जीवन संकट की ओर चल पड़ा है। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मार्किट में कच्चे तेल की कीमत बहुत कम है। जिसकी अपेक्षा हमारे देश में अंधाधुंध टैक्स लगाए जाने से डीजल व पेट्रोल कीमत बहुत ज्यादा हो गई है। डीजल के दामों में लगातार वृद्धि से किसान और आम आदमी की कमर टूट चुकी है। खेती घाटे का सौदा बन चुकी है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार महंगाई, डीजल और पेट्रोल के बढ़ते दामों को मुद्दा बनाकर सत्ता में आई थी, लेकिन अब वे अपने वादे को भूल चुकी है। जिससे आम आदमी त्रस्त है और लोग जीवन यापन भी नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने बढ़ी हुई महंगाई और डीजल और पेट्रोल के दामों को वापस लिए जाने की मांग की है। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि पेट्रोल और डीजल के दामों को वापस नहीं लिया जाता तो पूरे प्रदेश में आंदोलन किया जाएगा। इस अवसर पर कालू कुरैशी, जाकिर खान, इंदु हसन, सईद कुरैशी, भूपेंद्र कुमार, मोहित राणा आदि मौजूद रहे हैं।

देश में लगातार पेट्रोल और डीजल पर बढ़ रहे दामो के विरोध में सोमवार को भीम आर्मी भारत एकता मिशन के पदाधिकारियों ने अर्धनग्न होकर एक पैदल मार्च निकाला। जिसके बाद उन्होंने देश के राष्ट्रपति को संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम सदर संदीप कुमार को सौंपते हुए पेट्रोल और डीजल पर बढ़ाई गई कीमतों को वापस लिए जाने की मांग की है।
सोमवार को भीम आर्मी भारत एकता मिशन के जिलाध्यक्ष अनुज भारती के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने पेट्रोल डीजल पर बढ़ाए गए दामों के विरोध में अर्धनग्न होकर पैदल मार्च निकाला। कार्यकर्ताओं ने हाथों में नारे लिखी तख्तियां लेकर शहर के गुरुद्वारा तिराहे से पैदल मार्च निकाला, जहां से वह शामली कलेक्ट्रेट पहुंचे और राष्ट्रपति को संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम सदर संदीप कुमार को सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि देश में गत 21 दिनों से लगातार पेट्रोल डीजल की कीमतें बढ़ रही है। जिससे गरीब व मध्यम वर्ग के लोगों की कमर टूट गई है। कोरोना महामारी के चलते गरीब मजदूर में मध्यमवर्गीय जनता पहले से ही परेशान है और ऐसे में आत्मनिर्भरता की ओर कदम नहीं बढ़ाया जा सकता। कोई भी वर्क हो व्यक्ति उसको अपने व अपने देश के लिए कहीं ना कहीं चल कर ही रोजगार मिलता है। ऐसे में घर से निकलना और चलना आज इतना महंगा हो गया है कि गरीब की आंखों में आंसू है। उसका घर से निकलना दूभर हो गया है। उन्होंने कहा कि तेल कीमत डीलर 22.94 रुपए व इस पर एक्साइज ड्यूटी 32.98 रूपये लगाई जा रही है। जिसको कम किया जाना बहुत जरूरी है। इसमें डीलर कमीशन 3.60 रूपये है वेट 17.71 है। उक्त वह को भी कम कर के तेल के दाम कम किए जाए। उन्होंने कहा कि लॉक डाउन की अवधि से पूर्व भी कुछ चुनिंदा बैंक 3000 या उससे अधिक राशि खाताधारक को खाते में डालने के लिए बोलते है। गरीब के पास पैसा ना होने के कारण वह अपने खाते में उक्त निर्धारित राशि रखने में असमर्थ होते हैं। जिससे उसके खाते से मिनिमम बैलेंस मेंटेन रखने का कारण बताकर लगातार कटौती की जा रही है। जिस पर अंकुश लगाया जाए। इसके अलावा लॉकडाउन लगने के कारण किसान अपनी फसल को दूरदराज के मंडियों में ले जाने में असमर्थ है। जिस कारण स्थानीय खरीदार किसान की सभी फसलों को मनमर्जी से खरीद रहे हैं। जिससे किसान के खर्च भी पूरे नहीं हो पा रहे। किसानों को उनकी फसल का वाजिब दाम दिलाया जाए। उन्होंने कहा कि किसान सम्मान निधि के नाम पर किसानों को परेशान किया जा रहा है। कुछ किसान अभी ऐसे हैं, जिनको अभी तक किसान सम्मान निधि की एक भी किस नहीं मिल पाई। उन्होंने मामले में जांच कर कार्यवाही कराए जाने की मांग की। उन्होंने रोजगार बंद होने के कारण स्कूल संचालकों पर लगातार फीस जमा करने के दबाव पर रोक लगाए जाने की भी मांग की है। इसके अलावा बिजली बिल माफ करने और श्रमिकों की आर्थिक मदद की घोषणा करने की मांग की जाये। इस अवसर पर जिला प्रभारी नासिर चौधरी, हितेश गौतम, राजेश गौतम, राहुल कुमार आदि मौजूद रहे।
जिला कांग्रेस कमैटी के पदाधिकारियों ने पेट्रोल व डीजल के मूल्यों में अभूतपूर्ण बढोतरी के माध्यम से मोदी सरकार पर जबरन वसूली करने का आरोप लगाते हुए राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम सदर को सौंपा। जिसमें उन्होने पेट्रोल व डीजल के बढाये गए दामों को कम करने की मांग की है।
सोमवार को जिला कांग्रेस कमैटी के पदाधिकारियों ने देश के राष्ट्रपति को संबोधित एक ज्ञापन एसडीएम सदर संदीप कुमार को सौंपा। जिसमें उन्होने कहा कि लॉक डाउन के पिछले तीन माह के दौरान पेट्रोल व डीजल पर लगने वाले केन्द्रीय उत्पादन शुल्क और कीमतों में बार बार की गई अनुचित बढोतरी ने भारत के नागरिकों को असीम पीडा व परेशानियों दी है। जहां एक तरफ देश स्वास्थ्य व आर्थिक महामारी से लड रहा है वही दूसरी ओर मोदी सरकार पेट्रोल व डीजल की कीमतों और उस पर लगने वाली उत्पादन शुल्क को बार बार बढाकर इस मुश्किल घडी में मुनाफाखोरी कर रही है। उन्होने कहा कि पेट्रोल व डीजल के उत्पादन शुल्क में पिछले 6 सालों में लगातार बढोतरी करने से भाजपा सरकार ने 18 लाख करोड रूपये कमाऐं है। उन्होने बढाये गए पेट्रोल व डीजल के दामों को वापस लेने की मांग की है। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष दीपक सैनी, अनुज गौतम, सुल्तान सिंह, रामकिशोर पारचा, प्रवीन तरार, महेन्द्र शर्मा, धर्मेन्द्र काम्बोज आदि मौजूद रहे।

कब्जाधारकों से मिलीभगत का आरोप

शामली। कांधला क्षेत्र के गांव मीमला निवासी एक व्यक्ति ने डीएम को प्रार्थना पत्र देकर तालाब की भूमि पर नायाब तहसीलदार द्वारा अवैध कब्जा धारकों के साथ मिलीभगत कर पटटा धारक के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाया है।
सोमवार को कांधला क्षेत्र के गांव मीमला निवासी सुदेश कुमार ने डीएम को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि गांव में तालाब की भूमि को मत्सय पालन के लिए आवंटित किया गया है, लेकिन तालाब के दक्षिण पश्चिम में प्रवीन उर्फ मांगेराम, अरूण, कपिल ने पशुओं की खोर बनाकर अवैध निर्माण कर रास्ता बंद कर दिया है, जबकि उसके आगे कूडा कचरा तथा राख डाल रखी है, जिसकी सफाई भी करने नही देता है। उन्होने आरोप लगाया कि पोलोथीन तथा कचरा डालने से तालाब में अत्याधिक प्रदूषण फैल रहा है, जिससे तालाब में पाली गई मछलियां भी लगातार मर रही है। जिसकी शिकायत जिलाधिकारी शामली को की गई। आरोप है कि अवैध कब्जा धारी की झूठी शिकायत पर नायाब तहसीलदार ने पहुचकर दुर्व्यवहार किया। पीडित ने मामले में जांच कराकर कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

loading…