सीएम योगी ने यूपी को दिया शानदार तोहफा, 706 करोड रुपए…

नोएडा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नोएडा सेक्टर-33ए स्थित शिल्प हाट में आयोजित होने वाले यूपी दिवस कार्यक्रम का लखनऊ से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शुभारंभ किया. उन्होंने यूपी दिवस के अवसर पर 706 करोड़ रुपये की विभिन्न विकास योजनाओं की सौगात भी दी, जिनमें मुख्य रूप से गोवंश आश्रय स्थल, समुदायिक केंद्र का निर्माण, नोएडा एक्सप्रेसवे रिसर्फेसिंग, सेक्टर-78 में बनने वाले वेद वन पार्क, भूमिगत पार्किंग, बायोडायवर्सिटी पार्क आदि शामिल हैं.
सीएम योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश विकास के पथ पर अग्रसर है. नोएडा-ग्रेटर नोएडा तथा यमुना एक्सप्रेस-वे तीनों प्राधिकरण क्षेत्र में हो रहे कार्य की वजह से गौतमबुद्ध नगर उत्तर प्रदेश की आर्थिक राजधानी के रूप में उभर रहा है. यहां पर विकास कार्यों की अपार संभावनाएं हैं. उन्होंने कहा कि जेवर एयरपोर्ट के बनने के बाद क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं बढ़ी हैं. इस क्षेत्र में विदेशी कंपनियां इन्वेस्ट कर रही हैं.
सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि गौतमबुद्ध नगर में आयुक्त प्रणाली लागू होने के बाद से कानून व्यवस्था और सुदृढ़ हुई है. उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर 4 नए थानों के भूमि पूजन का भी लोकार्पण किया गया. उन्होंने सेफसिटी परियोजना का भी लोकार्पण किया. सेफ सिटी परियोजना में 1600 कैमरे लगेंगे, जिसके पहले चरण में करीब 250 कैमरे लगेंगे. बेहतर कानून व्यवस्था के लिए इस साल जिले में 11 नए थाने और दो नई चौकी का निर्माण प्रस्तावित है. 11 थानों में से 5 थाने एयरपोर्ट और फिल्म सिटी के आस पास होंगे. आज जिन थानों का भूमि पूजन किया गया, उनमें थाना फेज वन, थाना ओखला बैराज, थाना सेक्टर-116 तथा थाना सेक्टर-63 शामिल हैं. नोएडा में मनाये जा रहे उत्तर प्रदेश के 71वें स्थापना दिवस की थीम आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश, महिला युवा किसान, सबका विकास सबका सम्मान है. यूपी दिवस की शुरुआत रविवार को शास्त्रीय गायन, नृत्य तथा शिव आराधना के साथ हुई. इसके बाद कृषि विभाग की ओर से अन्नदाता संवाद और कृषि विज्ञान केंद्र की ओर से परिचर्चा आयोजित की गई. नोएडा सेक्टर-33ए स्थित शिल्प हाट में वाराणसी के घाट से लेकर ताजमहल की कलाकृति का लोगों ने दीदार किया. एक जनपद एक उत्पाद, स्वयं सहायता समूह के उत्पाद, औद्योगिक प्रदर्शनी तथा उत्तर प्रदेश के इतिहास की प्रदर्शनी लोगों के आकर्षण का केंद्र रही.
पुलिस प्रशासन के द्वारा मिशन शक्ति और साइबर अपराध की जागरूकता पर आधारित प्रदर्शनी भी यहां लगायी गयी. पर्यटन विभाग की द हेरिटेज और झांकी यूपी नहीं देखा तो इंडिया नहीं देखा का संदेश देती नजर आई. अयोध्या के दीपोत्सव की झांकी भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. यूपी दिवस के अवसर पर इतिहास के पन्ने से उत्तर प्रदेश का सफर उकेरा गया है. महाभारत काल से लेकर यूपी के इतिहास को समेटे पन्ने शिल्प हाट की दीवारों पर दिख रहे हैं. अभिलेखागार संस्कृति विभाग की प्रदर्शनी ने लोगों को खासा आकर्षित किया. यह पहला मौका है जब ऐतिहासिक अभिलेखों में जुड़ी कोई प्रदर्शनी नोएडा में लगी है. संस्कृति विभाग के अधिकारी हरीश चंद दुबे ने बताया कि श्रीमद्भागवत गीता के 18 अध्याय में 700 श्लोक हैं. किसने कितने श्लोक बोले यह कम ही लोग जानते हैं, लेकिन प्रदर्शनी में इसका विस्तृत ब्यौरा उपलब्ध कराया गया है. गीता के प्रथम से लेकर अंतिम अध्याय तक को तस्वीरों में कैद कर प्रदर्शनी में दिखाया गया है.
शिल्प हाट में बनी चोखी हवेली को तीन दिवसीय कार्यक्रम के दौरान यूपी की रसोई में तब्दील कर दिया गया है. यहां पहुंचकर लोगों ने पूर्वांचल की मिठास से लेकर पश्चिमांचल का स्वाद, बुंदेलखंड की सौगात, ब्रज की बहार और अवध की सुगंध नामक स्थल पर जाकर लजीज व्यंजनों का लुफ्त उठाया. वहीं अभिलेखागार संस्कृति विभाग की प्रदर्शनी में 10-10 के स्टाल में यूपी के सभी जिलों के इतिहास को समेटकर लगाया गया है. प्रत्येक मंडल के अलग-अलग जिलों की ऐतिहासिक जानकारियों को पन्नों में सहेज कर तस्वीरों के माध्यम से प्रदर्शित किया गया है.
उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस के शुभारम्भ अवसर पर मुख्य कार्य पालक अधिकारी नोएडा विकास प्राधिकरण रितु महेश्वरी के द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा आयोजित किये जा रहे कार्यक्रमों एवं प्रदर्शनी में लगाये स्टाॅलों तथा तीनों प्राधिकरण के माध्यम से किये जाने वाले विकास कार्यो के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी.
कार्यक्रम के समापन अवसर पर ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्य पालक अधिकारी नरेन्द्र भूषण के द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया. इस अवसर पर सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. महेश शर्मा, राज्यसभा सांसद सुरेन्द्र नागर, विधायक पंकज सिंह, दर्जा प्राप्त मंत्री नवाब सिंह नागर, उत्तर प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्षा विमला बाथम, दर्जा प्राप्त मंत्री कैप्टन विकास गुप्ता, यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुण वीर सिंह, पुलिस आयुक्त आलोक सिंह, जिलाधिकारी सुहास एल.वाई मौजूद रहे.

ये भी पढेंः खबरें हटके

big news