सीएम योगी ने मुजफ्फरनगर में 6 मजदूरों की हादसे में मौत पर जताया शोक,किया मुआवजे का ऐलान

मुजफ्फरनगर/लखनऊ। कोरोना वायरस संकट और लॉकडाउन के कारण पलायन कर रहे मजदूर बीती रात उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में एक सड़क हादसे का शिकार हो गए। इस घटना में 6 मजदूरों की मौके पर मौत हो गई, जबकि 3 घायल हैं। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस दुर्घटना पर शोक जाहिर करते हुए प्रत्येक मृतकों और घायलों को मुआवजा देने की घोषणा की है। मुजफ्फरनगर-सहारनपुर हाईवे पर रोहाना टोल प्लॉजा के पास यूपी रोडवेज की तेज रफ्तार बस ने बीती रात पंजाब से वापस अपने प्रदेश बिहार लौट रहे 10 मजदूरों को बुरी तरह कुचल दिया। हादसे में 6 मजदूरों की दर्दनाक मौत हो गई, जबकि शेष 4 बुरी तरह घायल हो गए। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भिजवाया जहां उनकी हालत को गंभीर देखते हुए डॉक्टर ने उन्हें मेरठ रेफर कर दिया। पुलिस ने मौके से सभी 6 मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया, सभी मजदूरों की पहचान हो गई है, जिसके बाद पीछे से पैदल आ रहे सैकड़ों मजदूरों को पुलिस ने ट्रक व अन्य वाहनों में बैठाकर आगे के लिए रवाना कर दिया।
सीएम योगी ने मुजफ्फरनगर-सहारनपुर हाइवे पर हादसे का शिकार हुए मृतक मजदूरों के परिजनों को 2-2 लाख रुपए का मुआवजा देने का ऐलान किया है। इसके अलावा घायलों को भी 50,000 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। इसके अलावा यूपी सीएमओ से मिली जानकारी के मुताबिक, अधिकारियों को मृतक श्रमिकों के शवों को बिहार उनके घर पहुंचाने का निर्देश दिया गया है। सहारनपुर के मंडलायुक्त से जांच के बाद मामले की रिपोर्ट सौंपने को भी कहा गया है।
बुधवार देर रात मुजफ्फरनगर-सहारनपुर स्टेट हाईवे-59 पर रोहाना टोल प्लाजा के पास रोडवेज की बस ने पंजाब से लौट रहे श्रमिकों के काफिले को कुचल दिया। हादसे में बुरी तरह घायल छह मजदूरों की मौके पर मौत हो गई। पुलिस के अनुसार हादसा रात में करीब 11ः45 बजे घलौली चेकपोस्ट और रोहाना टोल प्लाजा के बीच में हुआ। पंजाब प्रांत में मजदूरी करने वाले श्रमिकों की टोली देर रात को पैदल सहारनपुर से होते हुए मुजफ्फरनगर की ओर जा रही थी। इसी दौरान रोडवेज बस उन्हें कुचलते हुए फरार हो गई। भले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा प्रवासी मजदूरों को अपने-अपने राज्यों में भेजने का काम किया जा रहा हो, मगर अब भी बडी संख्या में ऐसे मजदूर है जो भूखे प्यासे पैदल ही अपने प्रदेश के लिए निकल रहे हैं। जनपद मुजफ्फरनगर में अक्सर पंजाब और हरियाणा में काम करने वाले बिहार, मध्य प्रदेश व उत्तर प्रदेश के मजदूर रात के अंधेरे में अपने गंतव्य की ओर बढ़ रहे हैं, क्योंकि इन मजदूरों को दिन में पुलिस द्वारा परेशान किया जाता है। देर रात जनपद में ऐसा भीषण हादसा हो गया जिससे आम इंसान की रूह कांप जाए। मुजफ्फरनगर सहारनपुर देवबंद मार्ग पर पंजाब से चलकर बिहार को जाने वाले सैकड़ों मजदूरों के जत्थे पैदल ही जा रहे हैं। बीती देर रात करीब 12 बजे ऐसे ही 10 लोगों के एक जत्थे को एक रोडवेज बस ने कुचल दिया। बताया जा रहा है कि यह रोडवेज बस आगरा से सहारनपुर प्रवासी मजदूरों को छोड़ कर वापस आगरा लौट रही थी। जानकारी के अनुसार बस का ड्राइवर शराब के नशे में धुत था और जैसे ही यह बस सहारनपुर की थाना देवबंद क्षेत्र की घलोली चेक पोस्ट को पार कर मुजफ्फरनगर जनपद की सीमा में घुसी तो टोल प्लाजा से कुछ ही दूरी पहले रोडवेज बस ने इन मजदूरों को कुचल दिया। जानकारी के अनुसार रोडवेज बस संख्या यूपी 85 ए टी 0911 का ड्राइवर राजवीर पुत्र बाबूलाल निवासी सुहागनगर फिरोजाबाद बस को लेकर फरार होने लगा मगर पुलिस ने उसे दबोच लिया। वहीं घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए जिला चिकित्सालय में भिजवाया, जहां उनकी हालत को गंभीर देखते उन्हें मेरठ रेफर कर दिया गया।
मृतकों के नाम 28 वर्षीय वीरेंद्र पुत्र श्यामनाथ निवासी बख्तियारपुर पटना बिहार, हरेक सिंह (52) पुत्र जमादार सिंह निवासी खजूरिया गोपालगंज बिहार उसका पुत्र विकास (22) पुत्र हरेक सिंह, गुड्डू (18) पुत्र बूंदा नंदराय भोजपुर बिहार, वासुदेव (22) पुत्र जवाहर सिंह निवासी गोपालगंज बिहार तथा हरीश साहनी पुत्र जगत सिंह खजूरिया (42) निवासी गोपालगंज बिहार बताए गए हैं। पुलिस ने सभी मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और मामले की छानबीन शुरू कर दी है। पुलिस ने ड्राइवर को हिरासत में ले लिया है।


loading…