शामली के बाजारों में उमडी भीड, सोशल डिस्टेंस की उडी धज्जियां

शामली। शुक्रवार को बाजारों में कोरोना महामारी से निपटने के लिए जारी रियायतों के चलते बाजारों में हलवाई, रेडीमेट, बर्तन, जूता, सर्राफ की दुकाने खोली गई। खरीदारी के लिए बाजारों में लोगों की भीड लगी रही, लेकिन दुकानदारों द्वारा सोशल डिस्टेसिंग के नियमों की जमकर धज्जियां उडाते हुए शासनादेश का भी उल्लंघन किया गया।
कोरोना वायरस के संक्रमण को देश में महामारी घोषित किया गया है। जिसको रोकने के लिए 18 से 31 मई तक देश व्यापी लॉक डाउन-4 घोषित कर दिया गया। जिले में मौहल्ला पंसारियान, बडी माता मंदिर रोड, बडीआल जाटान एवं सलेक विहार में कोरोना पॉजेटिव केस मिलने से हॉट स्पॉट करते हुए पूरी तरह से सील कर दिया गया है। उक्त स्थानों पर केवल चिकित्सकीय आपातकालीन स्थिति में अवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति में लगे लोगों को छोडकर किसी भी अंदर आने जाने की अनुमति नही है। कोरोना डाउन-4 में जिले में डीएम के आदेश पर कुछ दुकानों को खोलने की छूट दी गई है। शुक्रवार को बाजारों में विभिन्न दुकाने शेडयूल के अनुसार खोली गई। जिसमें दूध, दवा, सब्जी, किरयाना, मिठाई, बेकारी, ज्वैलर्स, बर्तन, रेडीमेट, जूते, बुक स्टेंशनरी, टेलरिंग, कॉस्मेटिक, जनरल स्टोर, बैंग, अटैची की दुकाने खोली गई। बाजारों में जैसे ही दुकाने खोली गई तो लोगों की भीड दुकानों पर लग गई। किरयाना सहित कई दुकानों पर भीड भाड होने से सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का कोई पालन नही किया गया। जबकि जिलाधिकारी द्वारा दुकानों पर सोशल डिस्टेसिंग बनाए रखने के लिए दुकान मालिकों द्वारा बैरिकेटिंग एवं पक्के पेंट से गोली बनवाए जाने के निर्देश दिए गए है। फेस मास्क एवं हेंड सैनेटाईजर की व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ ही कोरोना प्रोटोकॉल का सख्ती के साथ पालन करने के निर्देश दिए गए है, लेकिन उसके बावजूद डीएम के आदेशों की शहर के प्रमुख बाजारों में जमकर धज्जियां उडाई जा रही है।

रेहडी व्यापारियों को भी राहत देने की मांग

शामली। भाजपा नेता अजय संगल ने छोटे कामगारों की पीड़ा को समझते हुए जिलाधिकारी से वार्ता कर ठेली, रेहडी, खोमचा कामगारों को भी अपना व्यवसाय चलाने की अनुमति देने की मांग की है।
शुक्रवार को समाजसेवी अजय संगल ने डीएम जसजीत कौर से मुलाकात कर बताया कि जिले में लॉक डाउन में छूट के दौरान सभी दुकानों को खोले जाने की प्रमिशन दे दी गई है, लेकिन इस दौरान ठेली चालकों, रेहडा तथा खोमचा कामगारों की अनदेखी की गई है, जिस कारण उक्त लोगों के परिवारों के सामने आर्थिक संकट खडा है। ऐसी स्थिति में उनको भी सवेरे 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक लॉक डाउन के नियमों का पालन करते हुए अनुमति दी जाये। जिसके बाद जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि कंस्ट्रक्शन कार्य का सामान विभिन्न घरेलू, वाणिज्यिक सामान आदि की दुकानों की श्रेणी अन्य दुकानें के अंतर्गत मंगलवार बृहस्पतिवार व शनिवार को ठेली, खोमचा कामगार भी काम कर सकेंगे। वह केवल लॉक डाउन के समस्त नियमों का पालन करते हुए अपने बनाए हुए सामान जैसे चाट, खस्ता आदि को मात्र पैकिंग में ही बेच सकते हैं।

शामली मिल में आई खराबी के कारण लगा लंबा जाम, लोग परेशान

शामली। अपर दोआब शुगर मिल में आई तकनीकी खराबी के कारण शहर में गन्ने के वाहनों से जाम लग गया। जाम लग जाने से पैदल चलने वाले लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।
गत गुरूवार को शामली चीनी मिल में अचानक तकनीकी खराबी आ गई। जिससे मिल कई घंटों के लिए बंद हो गई। शुक्रवार सवेरे कुछ समय के लिए शुगर मिल चालू की गई, लेकिन दोपहर के समय दोबारा शुगर मिल खराब होने से शुगर मिल के बाहर गन्ने से भरे वाहनों की लंगी लंबी कतारे लग गई और गन्ने के वाहनों से शहर में जाम की स्थिति बनी रही। शामली मिल बंद हो जाने से मिल रोड से लेकर अग्रसेन पार्क, हनुमान रोड नाला पुल, दूसरी ओर शहर में कोतवाली रोड, अस्पताल रोड, सुभाष चौक तक गन्ने के वाहनों की लंबी कतार लग गई। जिससे सड़कों पर जाम लग गया। शहर में जाम से आवागमन बुरी तरह प्रभावित हो गया।

loading…