शामली के बाजारों में उमडी खरीदारों की भीड, संक्रमण फैलने का खतरा

शामली। जिला प्रशासन द्वारा लॉक डाउन में खरीदारी के लिए दी गई छूट के दौरान शनिवार को लोगों ने बाजारों में जमकर खरीदारी की। इस दौरान शहर की दुकानों पर सोशल डिस्टेसिंग का पालन न करने और बाजारों में बढती भीड को देखते हुए संक्रमण के फैलने का खतरा बना हुआ है। बंद गलियों में कई दुकाने रातभर खुली रहने से भी लोग घरों से आते जाते नजर आ जाते है।
जिला प्रशासन द्वारा कोरोना महामारी में लगाए गए लॉक डाउन में सवेरे 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक खरीदारी के लिए छूट दे रखी है। वैसे तो इस दौरान शैडयूल बनाकर दुकाने खोले जाने की अनुमति दी गई है, लेकिन बाजारों में लोग पुलिस को चकमा देकर प्रतिबंधित दुकानों को भी खोल लेते है। अधिकतर दुकानदारों द्वारा दुकान का शटर उठाकर दर्जनों ग्राहकों को दुकान के अंदर भेज दिया जाता है और आगे से दुकान का शटर नीचे कर दिया जाता है, जिससे संक्रमण महामारी फैलने का खतरा अधिक हो जाता है। कई बार ऐसे दुकानदारों को शहर कोतवाली पुलिस द्वारा पकडा भी जा चुका है, लेकिन कठोर कार्यवाही न होने की दशा में यह सिलसिला लगातार चल रहा है। शनिवार को बाजारों में खरीदारी को भीड लगी रही। दुकानों पर सोशल डिस्टेसिंग का पालन न होने से भी लॉक डाउन के नियमों का पालन नही किया गया है। ऐसी दशा में कोरोना महामारी फैलने का जिले में खतरा लगातार बना हुआ है।
लॉक डाउन में दी गई छूट समय अवधि में जिला प्रशासन द्वारा एक शैडयूल निर्धारित कर दुकानों को खोले जाने की अनुमति दी गई, लेकिन कुछ किरयाना व्यापारी खुद को यूनानी दवाखाना बताकर दिनभर दुकाने खोलने से नही डर रहे है। इस दौरान उक्त दुकानों पर जहां दर्जनभर कर्मचारी कार्य करते है वही एकबार में कई कई ग्राहकों के आने से कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।
जिले में कोरोना महामारी को लेकर जिला प्रशासन सख्ती अपनाए हुए है। जिला प्रशासन ने लॉक डाउन में समय अवधि के दौरान एक शैडयूल बनाकर दुकानों को खोले जाने की अनुमति दी है, ताकि लॉक डाउन में परेशान लोग खरीदारी कर सके। लेकिन कुछ दुकानदार जिला प्रशासन को लगातार ठेंगा दिखाने से बाज नही आ रहे है। एक ओर जहां दुकानदार दुकान को शटर उठाकर ग्राहकों को दुकान के अंदर भेज देते है और बाहर से दुकान बंद कर दी जाती है। वही दूसरी दूसरी ओर कुछ किरयाना व्यापारी भी बंद गलियों में दिनभर दुकाने खोलने से बाज नही आ रहे है। उक्त किरयाना दुकानदारों द्वारा खुद को यूनानी दवाखाना संचालक बताकर दुकाने खोली जा रही है। इस दौरान उक्त किरयाना की दुकानों पर दर्जनों कर्मचारी तो काम कर ही रहे है, लेकिन इस दौरान एक बार में कई कई ग्राहकों को भी दुकान के अंदर बुलाकर सोशल डिस्टेसिंग का उल्लंघन किया जा रहा है,जो संक्रमण बीमारी को फैलने का न्योता दिया जा रहा है। लोगों का कहा कि उक्त दुकानदार दवाखाना की आड में दिनभर किरयाना का सामान बेचते है, जिसकी जांच कर पुलिस को कार्यवाही करने की जरूरत है।

loading…