मुजफ्फरनगर के बाजारों में ईद के चलते उमडी खरीदारों की भीड, धूल में उडी सोशल डिस्टेंसिंग

मुजफ्फरनगर। शहर के बाजारों में आज ईद-उफ-फितर की खरीदारी के चलते भारी भीड उमडी। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग हवा हो गई। व्यापारी लोगों की भारी भीड़ उमड़ने के कारण चहकते हुए दिखाई दिए। बाजार को मिली बड़ी छूट के कारण सुबह से शाम तक मेला सा लगा नजर आया कहीं पर भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो रहा था बाजार में सुरक्षा के दृष्टिगत तैनात पुलिसकर्मियों के सामने ही सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ी यहां तक कि दुकानों पर भी नियमों का कोई पालन दुकानदार करते हुए नजर नहीं आ रहे थे कई बार पुलिस को कुछ स्थानों पर दुकानें बंद भी करानी पड़ी लेकिन पुलिस की इस सख्त कदम के बाद भी बाजारों में बुरा हाल रहा।
उल्लेखनीय है कि व्यापारियों द्वारा जिला प्रशासन पर इससे पहले ही बाजार खुलवाने की अनुमति देने का लगातार दबाव बनाया जा रहा था जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे द्वारा पूर्व में बाजार को दी गई छूट में कपड़ा रेडीमेड गारमेंट और जूता कारोबार की दुकानों को शामिल नहीं किया गया था जिसके बाद व्यापारियों के हंगामा करने और धरना देने पर प्रशासन को इन दुकानों को भी छूट के दायरे में शामिल करना पड़ा गुरुवार शनिवार और रविवार इन दुकानों के लिए दिन मुकर्रर किए गए थे इन दुकानों को खोलने का समय सुबह 7ः00 बजे से 11ः00 बजे तक किया गया था लेकिन ईद के त्यौहार को देखते हुए व्यापारी दुकान खोलने का समय बढ़ाने की मांग कर रहे थे शनिवार देर शाम जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे द्वारा शहर के बाजार खोलने के लिए संशोधित आदेश जारी किया गया इसके अंतर्गत शहर में बाजार खोलने की अनुमति के लिए एक बार फिर से समय परिवर्तन किया गया जिलाधिकारी की ओर से जारी किए गए आदेश के अनुसार रविवार से दुकानों को खोलने का समय सुबह 10ः00 से शाम 4ः00 बजे तक तय किया गया इससे व्यापारियों को बड़ी राहत मिली रविवार को ईद उल फितर के लिए चांद रात होने के कारण बाजारों में सवेरे से ही खरीदारों की भारी भीड़ उमड़ी नजर आई दुकान खोलने का समय सुबह 10ः00 बजे से था लेकिन व्यापारियों ने अपनी दुकानें सुबह 6ः00 बजे से ही शुरू कर दी थी इसके साथ ही सवेरे से ही लोग कपड़े जूते आदि खरीदने के लिए बाजार में उमड़ने लगे थे कई स्थानों पर पुलिस व प्रशासनिक अफसरों ने भ्रमण करते हुए 10ः00 बजे से पहले खोली गई दुकानों को बंद कराया लेकिन व्यापारी थे कि मानने का नाम नहीं ले रहे थे रविवार को सड़कों पर ठेले लगाने वालों की भीड़ लगी नजर आई यहां तक कि झांसी की रानी पार्क के पास ठेला लगाकर रोजी रोटी कमाने वाले लोग भी सवेरे ही अपने ठेले पर पहुंच गए थे यहां ठेला लगाने को लेकर कुछ लोगों में आपस की कहासुनी भी हो गई बाद में पुलिस को हस्तक्षेप कर मामला सुलझाना पड़ा रविवार को भीड़ का आलम यह था कि शहर में एक मेला सा लगा नजर आ रहा था भगत सिंह रोड एसडी मार्केट मेरठ रोड रुड़की रोड कोर्ट रोड अंसारी रोड शामली रोड हनुमान चौक आदि क्षेत्रों में बाजार पूरी तरह से गुलजार नजर आए खुलने के दौरान सुरक्षा व्यवस्था बनाने के लिए जगह-जगह पुलिस बल भी तैनात किया गया था पुलिस व प्रशासनिक अफसर भी लगातार बाजार की स्थिति पर नजर रखने के लिए भ्रमण करते हुए दिखाई दे रहे थे लेकिन इसके बावजूद भी लॉक डाउन के दौरान बाजारों में सोशल डिस्टेंसिंग का कहीं पर भी कोई पालन होता नजर नहीं आ रहा था जबकि जिलाधिकारी द्वारा दिए गए आदेश में स्पष्ट कहा गया है कि कोई भी दुकानदार बिना मास्क लगाए आने वाले लोगों को कोई भी सामान नहीं बेचेगा तथा खुद भी मास्क और हैंड ग्लव्स लगाकर ही दुकान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पूरा पालन कराते हुए अपना व्यापार करेगा लेकिन शहर में रविवार को भारी भीड़ होने के कारण कोई भी दुकानदार जिलाधिकारी द्वारा दिए गए आदेशों के अनुरूप व्यापार करता हुआ नजर नहीं आया यहां तक कि दुकानों पर आने वाले ग्राहकों को दुकानदार द्वारा सैनिटाइज भी नहीं किया गया ना ही इसके लिए कोई व्यवस्था की गई इसके साथ ही तैनात पुलिसकर्मी केवल मुख्य चौराहों और सड़कों तक ही सीमित रहे।

loading…