अभी-अभीः मुजफ्फरनगर में भारत बंद के चलते भारी फोर्स तैनात, हिरासत में लिया गया ये नेता, पढें पूरी अपडेट ओर देखें तस्वीरें


मुजफ्फरनगर। किसान संगठनों के आह्वान पर आज आहूत भारत बंद को लेकर जनपद पुलिस सख्त मूड में नजर आ रही है। जनपद में संवेदनशील स्थानों पर भारी फोर्स तैनात की गई है। भारत बंद के समर्थन के चलते थाना छपार पुलिस ने आज सुबह ही भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष को हिरासत में ले लिया। किसान संगठनों के प्रस्तावित भारत बंद व चक्का जाम को लेकर पुलिस-प्रशासन द्वारा जिले में कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। जिले को चार जोन व 20 सेक्टर में बांटकर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है, जिसके लिए तीन कंपनी पीएसी, डेढ़ सेक्शन आरआरएफ व करीब दो हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं।

जनपद में किसान संगठनों के प्रस्तावित भारत बंद के साथ ही रालोद द्वारा तीन स्थानों पर हाईवे चक्का जाम करने की भी घोषणा की गई है। प्रस्तावित बंद व चक्का जाम को सपा समेत कई संगठनों द्वारा समर्थन की भी घोषणा की गई है, जिसके चलते पुलिस-प्रशासन द्वारा शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए हैं। एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया कि जिले को चार जोन व 20 सेक्टर में बांटकर पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। इसके तहत जिले में मौजूद तीन कंपनी पीएसी और डेढ़ सेक्शन आरआरएफ के जवानों के साथ ही करीब दो हजार अतिरिक्त पुलिसकर्मियों को भी तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि रालोद द्वारा हाईवे के जिन तीन स्थानों पर चक्का जाम किया जाना है, वहां एहतियातन संबंधित सीओ व थानेदारों के साथ ही अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है, ताकि कानून व्यवस्था के लिए किसी तरह का खतरा न हो।
किसान संगठनों के मंगलवार को प्रस्तावित भारत बंद को लेकर जिले में राजनीतिज्ञ दलों रालोद, सपा और कांग्रेस ने भी अपना समर्थन दिया है। बंद को लेकर सभी किसान संगठन एकजुट हैं। जिले से निकलने वाले तीनों हाईवे दिल्ली-देहरादून, मेरठ-करनाल, पानीपत-खटीमा राजमार्ग पर जाम रहेगा। भारत बंद को लेकर जिले में किसान संगठनों के साथ राजनीतिज्ञ दलों ने भी कमर कस ली है। सुबह 11 बजे से लेकर दोपहर तीन बजे तक जिले में पूरी तरह चक्का जाम किए जाने की तैयारी है। भाकियू के जिलाध्यक्ष धीरज लाटियान ने किसानों से अपील की है कि वह अपने गांव के बाहर ही विरोध प्रदर्शन करें। किसान संगठनों के बंद में सहयोग करें। भाकियू तोमर के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजीव तोमर ने कहा कि बंद में उनका संगठन शामिल रहेगा। उनके कार्यकर्ता दो स्थानों लालूखेड़ी और पचेंडा बाईपास हाईवे पर जाम लगाएंगे। भारत बंद को पूरी तरह सफल किया जाएगा। रालोद के प्रदेश महासचिव सुधीर भारतीय ने बताया कि रालोद का किसानों को पूर्ण समर्थन रहेगा। रालोद कार्यकर्ता आंदोलन में किसानों से आगे रहेंगे। रालोद भारत बंद के दौरान मंसूरपुर, लालूखेडी, सिखेडा, बुढ़ाना में चक्का जाम करेगा।
कांग्रेस के शहर अध्यक्ष जुनैद रऊफ ने बताया कि पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी, प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर पार्टी कार्यकर्ता भारत बंद में किसानों के साथ रहेंगे। इस संबंध में पार्टी ने रणनीति भी बनाई। बैठक में पूर्व जिलाध्यक्ष तारीक क़ुरैशी, पूर्व प्रदेश सचिव गुफरान काजमी, महिला जिलाध्यक्ष गीता काकरान, शहराध्यक्ष नीलम गौतम, सेवादल जिलाध्यक्ष राहुल भारद्वाज, मुकेश चौहान, अल्पसंख्यक जिलाध्यक्ष इसरार सैफी, सलीम अंसारी, अनुसूचित जाति विभाग के जिलाध्यक्ष सुशील झंझोट, युवा कांग्रेस विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्ष रजत सिंघल, किसान कांग्रेस जिलाध्यक्ष याकूब प्रधान, अहसन जमीर, अजय चौधरी, दिलशाद अहमद, राजेंद्र कुमार पाल, अनीता ठाकुर, शारदा देवी, धीरज महेश्वरी, आदि मौजूद रहे।
किसान संगठनों के भारत बंद को क्रांति सेना ने अपना समर्थन दिया है। संगठन के प्रदेश महासचिव मनोज सैनी ने कहा कि नए कृषि कानून पर सरकार हठधर्मिता दिखा रही है इसीलिए किसानों को लंबा आंदोलन चलाना पड़ रहा है। क्रांति सेना किसानों के साथ है और बंद में पूरा समर्थन करेगी। बैठक में योगेंद शर्मा, नगर अध्यक्ष लोकेश सैनी, जिला महासचिव देवेंद्र चौहान, जिला उपाध्यक्ष सजंय गोयल, नगर महासचिव अखिलेश पूरी, नगर उपाध्यक्ष बसन्त कश्यप आदि उपस्थित रहे।
सपा के जिलाध्यक्ष प्रमोद त्यागी ने कहा कि किसान आंदोलन में सपा पूरी तरह किसानों के साथ है। भारत बंद में सपा कार्यकर्ता किसानों के साथ रहेंगे। उन्होंने कहा कि पुलिस की गिरफ्तारी से पार्टी डरने वाली नहीं है। प्रत्येक न्याय पंचायत पर पहुंचकर पार्टी के कार्यकर्ता किसान कानूनों की खामियों को किसानों के सामने रखेंगे।
भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत का कहना है कि चक्का जाम शांतिपूर्ण तरीके से सफल होगा। किसानों को अपने गांव के बाहर सड़क जाम करने को कहा है। सभी कार्यकर्ताओं को हिदायत दी गई है कि वह बीमारों की एंबुलेंस न रोके। बरात की गाड़ियां, परीक्षा देने जाने वाले छात्रों को नहीं रोका जाएगा। आंदोलन को बिना किसी को परेशान किए सफल किया जाएगा।
एशिया की सबसे बड़ी गड़ मंडी पर बंद का असर नहीं रहा। यहां के व्यापारियों ने मंडी को खोलने का निर्णय लिया। मंडी एसोसिएशन के मंत्री श्याम सिंह सैनी ने कहा कि वह न किसान आंदोलन के न पक्ष में है और न ही विरोध में। व्यापारी अपना कार्य करेंगे।

ये भी पढेंः खबरें हटके

big news