अभी-अभीः पूर्व विधायक पंकज मलिक की पुलिस अफसरों से झडप, दर्ज हुई एफआईआर, मचा हडकंप, देखें वीडियो

मुजफ्फरनगर/नई दिल्ली। यूपी सरकार और कांग्रेस के बीच बसों को लेकर छिडा विवाद कायम है। नोएडा में कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष तथा शामली के पूर्व विधायक पंकज मलिक सहित 20 से अधिक लोगों के खिलाफ मुकदमा कायम कराया गया है। बसों को लेकर पंकज मलिक तथा पुलिस अधिकारियों के बीच झडप होने का भी समाचार है। पकज मलिक पर लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन करने का आरोप है. कल ही कांग्रेसियों ने नोएडा में 100 बसों को इकट्ठा किया था, जिसे पुलिस ने रोक दिया था।
पुलिस अधिकारियों का कहना था कि हम सभी बसों की जांच कर रहे हैं. दो बसों का फिटनेस सर्टिफिकेट समाप्त हो चुका है. इन दोनों बसों को सीज किया गया है. बाकी बसों की जांच की जा रही है. माना जा रहा है कि सभी बसों की जांच के बाद ही अधिकारियों की ओर से हरी झंडी मिल सकती है. कांग्रेस ने बीजेपी पर राजनीति करने का आरोप लगाया है। नोएडा पुलिस ने लॉकडाउन के उल्लंघन के आरोप में कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष पंकज मलिक व अन्य नेताओ पर मुकदमा दर्ज किया है. सेक्टर-39 के थाने में यह एफआईआर दर्ज की गई है। पुलिस का आरोप है कि कांग्रेस के नेता देर रात तक बसों के पास ही जमा रहे और लॉकडाउन नियमों का उल्लंघन कर रहे थे। इस बीच प्रियंका गांधी वाड्रा के सचिव संदीप सिंह ने यूपी सरकार को खत लिखा है. उन्होंने कहा कि कि हम कल सुबह से बसों के साथ बॉर्डर पर खड़े हैं. हमें नोएडा – गाजियाबाद की ओर जाने पर रोका गया है. साथ ही आगरा बॉर्डर पर यूपी पुलिस ने हमें रोक लिया और पुलिस ने यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष अजय लल्लू के साथ दुर्व्यवहार किया। पत्र में कहा गया है कि आज शाम 4 बजे तक हम यहीं डटे रहेंगे. अभी भी नोएडा के महामाया फ्लाईओवर के नीचे 100 बसें खड़ी हैं, जिनकी जांच नोएडा पुलिस कर रही है. वहीं आगरा-भरतपुर बॉर्डर पर करीब 300 बसें खड़ी हैं, जिसे आगरा प्रशासन उत्तर प्रदेश में घुसने नहीं दे रही है।
नीचे क्लिक कर देखें वीडियो


loading…