एमपी में 6 जुलाई से घर-घर बजेगी स्कूल की घंटी, शुरू होगी यह योजना…

भोपाल. मध्य प्रदेश में ऑनलाइन पढ़ाई के साथ ही स्कूल शिक्षा विभाग ने घरों में स्कूल का वातावरण देने तैयारी की है. अब घर-घर में स्कूल की तरह ही घंटी बजेगी. शिक्षक घंटी बजाने के बाद छात्रों की कक्षाएं लेंगे. स्कूल शिक्षा विभाग अब “हमारा घर हमारा विद्यालय” नाम की योजना की शुरुआत करने जा रहा है. योजना के तहत स्कूली छात्रों को घर में ही स्कूल जैसा वातावरण दिया जाएगा.
स्कूलों में जिस तरह से स्कूली छात्र-छात्राएं बस्ते लेकर स्कूल की घंटी बजने पर अपनी-अपनी कक्षाओं में जाते थे. ठीक उसी तरह से अब 6 जुलाई से “हमारा घर हमारा विद्यालय” योजना की शुरुआत होने जा रही है, जिसके तहत शिक्षक घंटी बजाकर कक्षा की शुरुआत करेंगे. सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर एक तक विषय बार एक-एक घंटे की कक्षाएं लगाई जाएंगी. दोपहर एक बजे के बाद बच्चों का अवकाश घोषित किया जाएगा. पहली से लेकर आठवीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए हमारा घर हमारा विद्यालय के तहत अब शिक्षक छात्र- छात्राओं की विषय बार तैयारी करवाएंगे. पढ़ाई के साथ दूसरी गतिविधियों के लिए स्कूल शिक्षा विभाग ने समय सारणी तैयार की है. सोमवार से शुक्रवार विषय के हिसाब से पढ़ाई और शनिवार को मस्ती की पाठशाला स्कूली छात्र छात्राओं के लिए आयोजित की जाएगी.
हमारा घर हमारा विद्यालय योजना के तहत शिक्षक हर दिन 5 बच्चों से मोबाइल पर चर्चा करेंगे. पढ़ाई को लेकर उनकी समस्याएं जानेंगे और समस्याओं को सुलझाने का प्रयास करेंगे. मोबाइल पर चर्चा करने के साथ ही कम से कम 5 विद्यार्थियों के घर जाकर रोजाना संपर्क कर माता-पिता से पढ़ाई का फीडबैक लेंगे. साथ ही स्कूली छात्र- छात्राओं की पढ़ाई के स्तर का आकलन भी करेंगे.
लॉकडाउन के पहले चरण से ही स्कूल बंद हैं. स्कूल बंद होने के चलते ही स्कूल शिक्षा विभाग ने ऑनलाइन क्लासेस की शुरुआत की है. कहीं दूरदर्शन के माध्यम से क्लासेस लगाई जा रही है तो कहीं DIGI-LEP के माध्यम से छात्र-छात्राओं की पढ़ाई करवाई जा रही है. ऑनलाइन क्लासेस के जरिए सिलेबस पूरा कराने की कोशिशें हो रही है. वहीं व्हाट्सएप पर सिलेबस भी छात्र छात्राओं को भेजा जा रहा है. हालांकि ज्यादा ऑनलाइन क्लासेज के चलते स्कूल शिक्षा विभाग ने कुछ दिनों पहले ही प्री प्राइमरी और पहली से लेकर पांचवी तक ऑनलाइन क्लासेस पर प्रतिबंध लगा दिया था. पहली से लेकर आठवीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए हमारा घर हमारा विद्यालय योजना की शुरुआत की है.

loading…