कोरोना कहर के बीच उपचुनाव की तैयारी में कांग्रेस, सरकार को घेरने की बनाई ये रणनीति…

भोपाल. एक तरफ जहां पूरे प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर लॉकडाउन के हालात हैं, कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए जिला स्तर पर एक्शन प्लान पर अमल हो रहा है. वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस कोरोना संकट में सरकार को घेरने की रणनीति में जुट गया है. कांग्रेस ने अब ऑनलाइन मीटिंग के जरिए बीते डेढ़ महीने से ठप पड़ी राजनीतिक गतिविधियों को हवा देना शुरू शुरू कर दिया है. इसके लिए कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने पार्टी प्रवक्ता और मीडिया विभाग के पदाधिकारियों के साथ ऑनलाइन मीटिंग की.


इस बैठक में पार्टी पदाधिकारी के साथ 77 प्रदेशभर के प्रवक्ता शामिल हुए. ऑनलाइन मीटिंग में पार्टी प्रवक्ताओं से सरकार को घेरने को लेकर मंथन हुआ और पार्टी ने प्रवक्ताओं से सुझाव मांगा कि लॉकडाउन को लेकर बने हालातों पर किस तरीके से सरकार की घेराबंदी की जा सकती है. साथ ही लॉकडाउन में पार्टी की भूमिका को लेकर भी मंथन किया गया. ऑनलाइन मीटिंग में आगामी उपचुनाव की रणनीति को लेकर भी मंथन हुआ. बैठक में 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव वाले जिलों के प्रवक्ताओं को आक्रामक शैली तैयार करने की नसीहत दी गई. पार्टी की कोशिश है कोरोना संकट में जहां लोग घरों में कैद हैं ऐसे में पार्टी किस तरीके से लोगों तक अपनी बात पहुंचाए और सरकार के कामकाज की समीक्षा करें.
दरअसल, कांग्रेस पार्टी की ऑनलाइन मीटिंग इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि हाल ही में पीसीसी चीफ और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी इस बात का दावा किया था कि प्रदेश में 24 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में 20 से 22 सीटों पर कांग्रेस जीत हासिल करेगी. इसके बाद अब कांग्रेस पार्टी अपने को सक्रिय करने की कवायद में जुट गई है.
कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, दिग्विजय सिंह से लेकर पार्टी के तमाम बड़े नेता चिट्ठी और ट्वीट के जरिए प्रदेश सरकार पर हमला बोलते रहे हैं. लेकिन अब पार्टी ने ऑनलाइन मीटिंग के जरिए संगठन के कामकाज में तेजी लाने की कवायद शुरू कर दी है. पार्टी लॉक डाउन खत्म होने के बाद उपचुनाव को लेकर होने वाली राजनीतिक सरगर्मियों को लेकर है. यहीं कारण है कि हर स्तर पर पार्टी रणनीति बनाने में जुट गई है.

loading…