इंदौर में बजी खतरे की घंटी, 1 दिन में मिले कोरोना के 131 नए मरीज, यहां देखे…

इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर में कोरोना वायरस का संक्रमण थमने का नाम ही नहीं ले रहा है. शहर के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. संक्रमण की दर यहां बढ़कर 9 फीसदी पर पहुंच गई है और रिकवरी रेट घटकर 47 फीसदी पर आ गया है. हालात ये हैं कि शहर के 85 वॉर्डों में से 81 में कोरोना के मरीज मिल चुके हैं. पूरे शहर में अब तक 385 कंटेनमेंट एरिया बनाए जा चुके हैं. पिछले 24 घंटे में 131 नए मरीज मिले हैं. इसके बाद मरीजों का आंकड़ा 2238 पर पहुंच गया है.
हालात को देखते हुए कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा है कि फिलहाल यहां कोई रियायत नहीं दी जाएगी.
इंदौर के महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज से जारी मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 1728 मरीजों के सैम्पल लिए गए. उनमें से 1422 की जांच की गई. इनमें 131 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए. 1291 मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव निकली. जिले में अब तक कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 2238 हो चुकी है.
इंदौर जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया के अनुसार जिले में कोरोना संक्रमण की वजह से 96 लोगों की अब तक मौत हुई है. डॉक्टर जड़िया ने बताया कि बुधवार को भी पूरी तरह से स्वस्थ हो चुके 72 लोगों को विभिन्न अस्पतालों से छुट्टी दी गई. इस तरह जिले में अब तक 1046 लोग स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं. डॉ जड़िया ने बताया कि अब तक जिले में 1993 लोगों को विभिन्न क्वॉरेंटीन सेंटर्स से डिस्चार्ज किया जा चुका है. वर्तमान में 1096 कोरोना पॉजिटिव मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है.
इंदौर में कोरोना की संक्रमण दर में लगातार इजाफा हो रहा है. पिछले 3 दिन में यह 6.5 फ़ीसदी से बढ़कर 9 फ़ीसदी पर पहुंच गया है. 1 मरीज की मौत के बाद मृत्यु दर भी 4.5 फीसदी के पार पहुंच गई है. रिकवरी रेट में भी गिरावट आ गई है. तीन दिन से ये 48 फीसदी पर था. अब 1046 मरीजों के डिस्चार्ज होने के बाद रिकवरी रेट 1 फीसदी गिरकर 47 फीसदी पर पहुंच गई है.
इंदौर में कोरोना संक्रमण का अंदाज आपको इस बात से लग जाएगा कि शहर में अब तक 385 कंटेन्मेंट एरिया बनाए जा चुके हैं. दो दिन में शहर में 26 नये कंटेनमेंट एरिया बने हैं.ये वो क्षेत्र हैं जहां अभी कोरोना के मरीज नहीं मिले थे.नए कंटेनमेंट एरिया की मॉनिटरिंग के लिए इंसीडेंट कमांडरों की नियुक्ति भी कर दी गई है.संक्रमण की रोकथाम के लिए कंटेनमेंट एरिया में आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित रहता है. इस एरिया से अंदर आने या बाहर जाने पर भी बैन है. कंटेनमेंट एरिया में स्वास्थ्य कर्मचारी रोज मॉनिटरिंग कर रहे हैं. हैं. कोरोना के बुखार, खांसी, गले में दर्द और सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण दिखते ही वो अपने सीनियर अफसरों को सूचना देते हैं और फिर पॉजिटिव मरीजों के परिवार और संपर्क में आए लोगों क्वारेंटीन और उनका फॉलोअप करते हैं.
मरीजों की बढ़ती संख्या का ही नतीजा है कि इंदौर को फिलहाल लॉकडाउन से रियायत मिलती नहीं दिख रही है. कलेक्टर मनीष सिंह ने अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा कि आने वाले समय में शहर में किसी तरह की रियायत नही दी जाएगी. धर्मस्थल पर किसी तरह की छूट नहीं होगी. यदि किसी तरह की छूट को लेकर कोई भ्रामक संदेश प्रसारित करता है तो उस पर सख्त कार्रवाई होगी.

loading…