हिमाचल में दसवीं और 12वीं के छात्रों को प्रमोट करने की तैयारी

शिमला। कोरोना के चलते हिमाचल में स्कूल-कॉलेजोंकी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं और शिक्षण संस्थान 15 मई तक बंद किए गए हैं. राज्य सरकार दसवीं और ग्यारवीं के छात्रों को प्रमोट करने पर विचार कर ही है. इसको लेकर अभिभावकों और शिक्षकों के सुझाव लिए जा रहे हैं. इस बाबत शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुरका कहना है कि 10वीं और 11वीं के छात्रों को प्रमोट करने के फैसल पर कैबिनेट में चर्चा की जाएगा.

इसको लेकर शिक्षा विभाग को मिले सुझावों पर चर्चा की जा रही है. इस पर कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद ही फैसला लिया जाएगा. गोविंद ठाकुर ने कहा कि 12वीं की परीक्षा करवाने को लेकर फिलहाल कोई फैसला नहीं किया गया है, हालात सामान्य होने पर ही इस पर कोई फैसला किया जाएगा. परीक्षा करवाने से पहले छात्रों को तैयारियों के लिए समय दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि फिलहाल सिलेबस कम करने को लेकर भी कोई फैसला नहीं किया गया है.

कोरोना काल में प्रभावित हो रही पढ़ाई को लेकर शिक्षा मंत्री ने कहा कि पढ़ाई भी महत्वपूर्ण है लेकिन इससे पहले सरकार के समक्ष नागरिकों को बचाना प्राथमिकता है. उन्होंने कहा कि छात्रों की पढ़ाई सुचारू रूप से चलती रहे इसके लिए ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था की गई है. वहीं दूसरी ओर वैक्सीनेश में शिक्षकों की ड्यूटी को लेकर पूछे सवाल के जबाव में शिक्षा मंत्री ने कहा कि स्थानीय स्तर पर शिक्षकों की सेवाएं ली जा रही हैं.
स्वास्थ्य कर्मियों पर अतिरिक्त भार

वैक्सीनेशन अभियान को पूरा करना भी सरकार की प्राथमिकता है, स्वास्थ्य कर्मचारियों पर अतिरिक्त बोझ है. ऐसे में शिक्षकों की मदद ली जा रही है. उन्होंने कहा कि वैक्सीन लगाने में उतना समय नहीं लग रहा जितना की पंजीकरण की प्रकिया में लग रहा है. इसी के चलते पंजीकरण प्रकिया को तेज करने के लिए शिक्षकों की सेवाएं ली जा रही हैं.