ओरल सेक्स से हो सकती हैं स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं, जानिए सुरक्षित तरीका

जब बात आती है बैडरूम में कुछ डिफरेंट करने की, तो ओरल सेक्स सभी कपल्स का पसंदीदा है। ओरल सेक्स में प्रेगनेंसी का कोई खतरा नहीं होता, जिसके कारण कई कपल इंटरकोर्स के बजाय ओरल सेक्स को प्राथमिकता देते हैं।

हालांकि ओरल सेक्स आपकी सेक्स लाइफ में विविधता बढ़ाता है और आनंदवर्धक है, लेकिन यह खतरनाक भी हो सकता है।

पूरी तरह सुरक्षित नहीं है ओरल सेक्स
मदरहुड हॉस्पिटल, नोएडा के गायनोकॉलोजिस्ट डॉ संदीप चड्ढा कहते हैं,”ओरल सेक्स के विषय में जानकारी और जागरूकता दोनों की ही कमी है। ओरल सेक्स से इंफेक्शन हो सकते हैं, इसलिए आपके इंटिमेट हेल्थ के लिए यह सुरक्षित नहीं है।”

जी हां, आपने ठीक पढ़ा, ओरल सेक्स से कई प्रकार के इंफेक्‍शन फैल सकते हैं। डॉ चड्ढा ऐसे ही कुछ सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन के बारे में बताते हैं-

ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (HPV)- यह वायरस महिलाओं और पुरुषों दोनों में ही संक्रमण फैला सकता है। आमतौर पर यह त्वचा के टच से फैलता है। यह वायरस मुंह, गर्दन और प्राइवेट पार्ट में हो सकता है जहां यह वार्ट्स पैदा करता है।

ओरल सेक्‍स से भी आपको संक्रमण हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक ओरल सेक्‍स से भी आपको संक्रमण हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हर्पीस – यह बीमारी हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस से होती है जो टच से ही फैलती है। अगर आपके पार्टनर को ओरल हर्पीस है यानी मुंह का हर्पीस, तो ओरल सेक्स के दौरान वह इंफेक्शन आपके इंटीमेट एरिया में भी पहुंच सकता है। हर्पीस में प्रभावित हिस्से में दाने, चक्कते, खुजली और दर्द होता है।

एड्स (AIDS) – अक्वायर्ड इम्यूनो डेफिशिएंसी सिंड्रोम ऐसी समस्या है जिसमें HIV वायरस के कारण शरीर का इम्यून सिस्टम खराब हो जाता है। इसके बाद व्यक्ति बार-बार बीमार पड़ने लगता है क्योंकि उनका शरीर बीमारी से लड़ने में असक्षम हो जाता है।

एड्स होने पर बुखार, सर्दी-खांसी, इंफेक्शन इत्यादि बहुत आम हो जाते हैं। यूं तो एड्स इंटरकोर्स से फैलता है, लेकिन ओरल सेक्स से भी फैलने की सम्भावना होती हैं।

सिफलिस- यह बैक्टीरिया से होने वाली एक खतरनाक बीमारी है जो संक्रमित व्यक्ति से किसी भी प्रकार से सेक्सुअल कॉन्टैक्ट से फैल सकती है। इस बीमारी में पेनिस, वेजाइना, ऐनस, रेक्टम या होठों पर छाले निकल आते हैं और यही इंफेक्शन आगे फैल जाता है।

क्लैमीडिया- यह एक बैक्टीरिया से होने वाला इंफेक्शन है जिसमें प्राइवेट पार्ट में भयंकर दर्द होता है और सफेद-पीला पस निकलने लगता है। यह बहुत दर्दनाक स्थिति होती है जो ओरल सेक्स या सेक्स से फैल सकती है।

ओरल सेक्स से इंफेक्शन फैलने का खतरा ज्यादा क्यों होता है?
सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज का खतरा इंटरकोर्स में ओरल सेक्स के मुकाबले ज्यादा है। फिर भी ओरल सेक्स से संक्रमण फैलने के मामले सामने ज्यादा आते हैं। इसका कारण है ओरल सेक्स के दौरान लापरवाही।

डॉ चड्ढा हमें बताते हैं वे गलतियां जो कपल्स अक्सर ओरल सेक्स के दौरान करते हैं-

डॉ चड्ढा बताते हैं,”अगर आप ओरल सेक्स के दौरान प्रोटेक्शन का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो संक्रमण का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। अगर आपके पार्टनर के मुंह में किसी भी तरह का इंफेक्शन है तो वह आसानी से आप में ट्रांसफर हो सकता है। लेकिन सावधानी बरतने पर यह रिस्क काफी कम हो जाता है।”

कैसे रखें खुद को सुरक्षित?
आपको कभी भी अपने स्वास्थ्य और इंटीमेट हेल्थ के प्रति लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए।

1. सेक्स के दौरान प्रोटेक्शन का इस्तेमाल करें, चाहे वह ओरल सेक्स ही क्यों न हो।
2. किसी भी तरह के शारीरिक सम्बंध तभी बनाएं जब आपको यकीन हो कि आपका पार्टनर संक्रमित नहीं है।
3. अपने पार्टनर से यह डिस्कस करने में झिझकें नहीं। यह आप दोनों की सेहत और सुरक्षा का सवाल है।
4. एक से अधिक पार्टनर रखने से बचें। सेक्स सिर्फ शारीरिक सुख नहीं, बल्कि प्रेम का प्रतीक है।
5. सेक्स से पहले और बाद में अच्छे से सफाई करें। इसके अलावा भी इंटिमेट हाइजीन का ख्याल रखना चाहिए।

यह थोड़ी सी सावधानी आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत बड़ा कदम बनेगी।

 

Trending Posts

loading…