महिला को दांत से काटते ही मर गया कोरोना का मरीज, मचा हडकंप

पानीपत। जानलेवा बन चुके कोरोना वायरस से संक्रमित एक युवक ने अपनी मौत से कुछ देर पहले एक महिला को दांत से काट लिया। घटना हरियाणा के पानीपत की है। हैरानी की बात यह भी है कि यह युवक कोरोना संक्रमित होने के बावजूद पानीपत से दिल्ली पहुंच गया था।
घटना के बारे में मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली के नवादा के रहने वाले 24 साल के दीपक की पिछले कुछ दिनों से तबीयत खराब थी। कुछ दिनों पहले दीपक ने दिल्ली में एक मेडिकल स्टोर से खांसी-बुखार की दवा खरीदी। इसके बाद वो सोमवार की रात करीब 8 बजे पानीपत अपने दादी के घर पहुंच गया। दीपक की दादी दीनानाथ कॉलोनी में रहती हैं। इसी रात यह दीपक पड़ोस में रहने वाली एक बुजुर्ग महिला के घर में चोरी से घुसा और उसने उन्हें दांत से काटा। बताया जा रहा है कि घटना के वक्त महिला की चीख निकल गई। महिला के परिवार वालों की जब नींद खुली तब उन्होंने इस युवक के चंगुल से उन्हें बचाया। न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक सोमवार की देर रात करीब 2 बजे दीपक की मौत हो गई। मौत के बाद दीपक के मुंह से कुछ तरल पदार्थ निकल रहा था। इस तरह से मौत होने पर स्थानीय पुलिस और चिकित्सकों की भी इसकी सूचना मिली। मौके पर पहुंची मेडिकल टीम ने युवक का कोरोना टेस्ट भी किया। टेस्ट रिपोर्ट में युवक के कोरोना पॉजीटिव पाए जाने पर यहां हड़कंप मच गया। हालात यह हो गए कि दीपक के घरवाले उसकी लाश को छूने के लिए भी राजी नहीं थे। इसके बाद जन सेवादल संस्था ने पीपीई किट पहनकर दीपक का अंतिम संस्कार किया। दीपक के बारे में पता चला है कि उसके पिता ट्रक चलाते हैं और उसकी दो बहने हैं जो दिल्ली में रहती हैं। दिल्ली में दवा खरीदने के बाद दीपक पानीपत के टोल प्लाजा तक पहुंचा था जिसके बाद उसकी दादी उसे लेने आई थी। इधर दीपक के पूरे परिवार वालों को क्वारन्टीन कर दिया गया है। इसके अलावा दीपक ने मरने से पहले जिस महिला को दांत से काटा था उन्हें और उनके बेटे को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है। दोनों के टेस्ट सैंपल भी लिए गए हैं। आपको बता दें कि पानीपत में कोरोना वायरस की वजह से यह पहली मौत है।
पानीपत में दीनानाथ कॉलोनी में 24 साल के युवक की मौत हो गई थी। वह एक दिन पहले दिल्ली से आया था। स्वास्थ्य विभाग व पुलिस को मंगलवार सुबह 4 बजे सूचना मिली तो स्वैब सैंपल ले लैब में भेज दिए। डॉक्टर मान रहे थे कि उसकी रैबिज से मौत हुई है क्योंकि उसने मरने से पहले पड़ोस की एक महिला के हाथ पर काट लिया था। महिला के सैंपल ले क्वारैंटाइन कर दिया गया था। मौत से पहले युवक के मुंह से लार निकली थी। यह रैबीज के लक्षण हैं। वहीं कोरोना की दहशत के चलते कोई पड़ोसी युवक के अंतिम संस्कार में मदद कराने नहीं आया। जिस युवक की मौत हुई वह दिल्ली से लौटा था। रात में अचानक उसे घबराहट हुई और घर से बाहर भाग गया। उसने बाहर जाकर पड़ोस की एक महिला के हाथ पर काट दिया। वापस घर में आकर गिर गया और उसकी मौत हो गई। मृतक की दादी ने बताया, ‘मेरा पोता रविवार को दिल्ली से आया था। वह मजदूरी करता था। उसके तीन-भाई बहन हैं। पिता फलों का काम करता है। मां की 7 साल पहले मौत हो गई थी। सोमवार रात को पोता बोला कि उसे पानी से डर लगा रहा है। वह बहुत घबराया हुआ था। फिर बोला दादी पपीता खाना है, वो पपीता काटने चली गई। इतने में पोता डरकर बाहर भाग गया, पड़ोस की एक महिला के हाथ पर काट लिया। फिर घर आते ही अचानक गिर गया और उसके मुंह से लार टपक रही थी। फिर अचानक मर गया। रात भर उसके शव के पास बैठी रही। कोरोना के डर के कारण कोई पड़ोसी घर नहीं आया। संस्कार में कोई शामिल नहीं हो पाया। लोग घरों की छतों पर खड़े होकर सिर्फ देखते रहे। युवक का पिता भी संस्कार में शामिल नहीं हो पाया। पिता बाहर है, दोनों बहनों की शादी हो चुकी है, वो भी नहीं आ पाई।’

loading…