बड़ी खबर: सोना खरीदना चाहते हैं तो करे जल्दी, इन 5 कारणों से 60 हजार के पार पहुंचने वाला है दाम

इस साल कोरोना वायरस महामारी की वजह से सोने के भाव में लगतार उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है. बीते कुछ समय में इसमें गिरावट का रुख रहा है. हालांकि, जानकार बता रहे कि लंबे समय तक यह गिरावट नहीं देखने को मिलेगा. फिलहाल सोने का भाव 46,743 रुपये प्रति 10 ग्राम पर है. इंडियन बुलियन ज्‍वेलर्स एसोसिएशन का कहना है कि बीते एक सप्‍ताह में सोना 1,015 रुपये सस्‍ता हुआ है.

हालांकि पूरे अप्रैल महीने की बता करें तो इसमें 2,602 रुपये की तेजी आई है. इसके 31 मार्च 2021 को सोने का भाव 44,190 रुपये प्रति 10 ग्राम पर था. लेकिन मई महीने को लेकर एक्‍सपर्ट्स का कहना है कि सोने के भाव में बड़ी तेजी देखने को मिल सकती है.

कमोडिटी बाजार के जानकार केवल सोना ही नहीं बल्कि चांदी के भाव में भी तेजी का अनुमान लगा रहे हैं. फिलहाल चांदी अपने रिकॉर्ड स्‍तर से नीचे है और प्रति किलो चांदी का भाव 67,800 रुपये है. बीते एक सप्‍ताह में चांदी के दाम में 1,352 रुपये प्रति किलोग्राम की गिरावट आई है.

पूरे अप्रैल महीने की बात करें तो इस दौरान चांदी के भाव में 4,968 रुपये प्रति किलोग्राम सस्‍ता हुआ है. जबकि, 31 मार्च को चांद का भाव 62,862 रुपये प्रति किलोग्राम पर था.

कमोडिटी मार्केट के जानकारों का कहना है कि देश में कोरोना संकट की वजह से अस्थिरत और अनिश्चितता का माहौल बना हुआ है. लोगों में अभी डर है कि कहीं लॉकडाउन न लग जाए. वहीं, दूसरी ओर महंगाई भी बढ़ने लगी है. आने वाले दिनों में सोने के भाव पर इन फैक्‍टर्स का असर देखने को मिलेगा.

यही कारण है कि आगामी 5-6 महीनों के दौरान सोने में बड़ी तेजी देखने को मिल सकताी है. दिवाली तक सोने का भाव 60 हजार रुपये प्रति 10 ग्राम के पार जा सकता है. अन‍िश्चितता के माहौल में निवेशकों को सोने सबसे सुरक्षित निवेशक विकल्‍प के रूप में पसंद आता है.

1. इन जानकारों का कहना है कि कोरोना संक्रमण की वज हसे दुनियाभर में अनिश्चितता का माहौल बना हुआ है. इससे शेयर बाजार में उठा-पटक देखने को मिल रहा है. ऐसे वक्‍त में निवेशकों के लिए सोना ही सबसे सुरक्षित निवेश विकल्‍प बनता है. ऐसी स्थिति में सोने के दाम में तेजी आती है. पिछले साल इसी तरह तेजी देखने को मिली थी, जब अगस्‍त 2020 में सोने का भाव 56,200 प्रति 10 ग्राम के रिकॉर्ड स्‍तर पर पहुंचा था.

2. अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में पिछले कुछ समय के दौरान डॉलर में कमजोरी देखने को मिली है. भारतीय रुपये में भी गिरावट देखने को मिली है. ऐसे में इन दोनों करेंसी में कमजोरी होने से सोने के कीमतों को सपोर्ट मिलेगी.

3. चीन का केंद्रीय बैंक अपने रिज़र्व में सोना बढ़ा रहा है . साथ ही यहां के बैंकों को भी सोना आयात करने की मंजूरी दे दी गई है. इससे भी आने वाले दिनों में सोने के भाव तेजी देखने को मिलेगी.

4. भले ही बीते सप्‍ताह अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में सोने के दाम में गिरावट देखने को मिली है. लेकिन, अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में सोने के भाव में तेजी का दौर जारी रहा है. अमेरिकी बाजार में सोने का भाव 1,773 डॉलर प्रति औंस से ऊपर ट्रेड करते नजर आ रहा है. 1 अप्रैल को यहां सोने का भाव 1,730 डॉलर प्रति औंस पर था.

5. खुदरा और थोक महंगाई दर के आंकड़ों में उछाल की वजह से भी सोना और चांदी के भाव में तेजी देखने को मिलेगा. खुदरा व थोक महंगाई दर बीते 8 साल के उच्‍चतम स्‍तर पर पहुंच चुके है.