100 रुपए के पार पहुंचा प्याज, मोदी के मंत्री ने दिया यह गजब का बयान

नई दिल्ली। प्याज की बढ़ी कीमतों को लेकर केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने बुधवार को सचिवों के साथ एक बैठक की. बैठक के बाद रामविलास पासवान ने कहा कि प्याज की जमाखोरी पर कड़ी नजर रखी जा रही है. बहुत जल्द बाजार में नए और आयातित प्याज की आपूर्ति बड़ी तादाद में शुरू हो जाएगी, जिससे कीमतें तेजी से नीचे आएंगी.

पासवान ने कीमत कम करने के सुझाव आम लोगों से मांगे हैं. उन्होंने कहा कि कीमतों को कैसे कम किया जाए मीडिया और आम लोग इस पर अपने सुझाव सोशल मीडिया या कंज्यूमर ऐप के जरिए हमें दे सकते हैं.

दरअसल, पासवान ने कीमतों को जल्द नियंत्रित करने के उपायों की समीक्षा के लिए सचिवों के साथ बैठक की. इस बैठक के बाद उन्होंने ट्वीट कर बताया कि खरीफ की बुवाई में देरी के कारण प्याज की नई फसल बाजार में देर से पहुंच रही है.

बता दें कि बाजार में प्याज की कीमतें 100 रुपए के पार जा चुकी हैं. पासवान ने ट्वीट कर कहा कि प्याज उत्पादक राज्यों, खासकर महाराष्ट्र और कर्नाटक में अधिक बारिश के कारण फसल को काफी नुकसान पहुंचा है. प्याज की ढुलाई में भी परेशानी आ रही है. सरकार अपने बफर स्टॉक से लगातार प्याज की आपूर्ति कर रही है.

उन्होंने कहा कि बाजार में प्याज की आपूर्ति बढ़ाने के लिए इजिप्ट, टर्की, ईरान और अफगानिस्तान से प्याज आयात करने की प्रक्रिया जारी है. विदेश और कृषि मंत्रालय से अनुरोध किया गया है कि इन देशों से बात कर निजी कंपनियों को प्याज के आयात की सुविधा उपलब्ध कराएं.

120 रुपये प्रति किलो तक जा सकती है कीमत
व्यापारियों के मुताबिक, खुदरा बाजार में प्याज की कीमत अभी 120 रुपये प्रति किलो तक जा सकती है. रामविलास पासवान ने कहा कि इस बार पिछले साल की तुलना में प्याज का उत्पादन 40 प्रतिशत कम हुआ है. दिल्ली में प्याज की कीमत में बीते दस दिन में 200 से 300 फीसदी तक इजाफा हुआ है.

कई अन्य राज्यों में प्याज की खुदरा कीमतें 80 से 90 रुपये तक चल रही हैं. महाराष्ट्र के लासलगांव होलसेल मार्केट में प्याज की होलसेल प्राइस 55.50 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई है. यह 4 चार साल का सबसे ऊंचे स्तर पर है. इससे पहले अगस्त की शुरुआत में इसकी कीमत 13 रुपये प्रति किलो थी.

Trending Posts

loading…

Loading…