मौसम का कहर: तैयार रहिये इस बार भीषण गर्मी के लिए, हवा उगलेगी आग

नई दिल्ली। मौसम ने इस साल की गर्मियों के ट्रेलर दिखा दिया है। मौसम विभाग के अनुसार देश में जनवरी न्यूनतम तापमान के लिहाज से 62 साल में सबसे अधिक गर्म महीना रहा। ये जान लीजिए कि इस बार देश मे भीषण गर्मी पड़ने वाली है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने मार्च से मई तक के अपने ग्रीष्मकालीन पूर्वानुमान में कहा है कि पूरे उत्तर भारत और खासतौर पर दिल्ली एनसीआर, हरियाणा और वेस्ट यूपी में भीषण गर्मी पड़ने के आसार हैं।

दिन का तापामान सामान्य से अधिक
उत्तर, पूर्वोत्तर, पूर्व और पश्चिम भारत के कुछ हिस्सों में दिन का तापामान सामान्य से अधिक रहेगा। हालांकि दक्षिण और उससे सटे मध्य भारत में दिन का तापमान सामान्य से कम रहने का अनुमान जताया गया है।

मौसम विभाग ने कहा है कि छत्तीसगढ़, ओड़िशा, गुजरात, तटीय महाराष्ट्र, गोवा एवं तटीय आंध्रप्रदेश में अधिकतम तापमान सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है। हिमालय के तलहटी वाले क्षेत्रों, पूर्वोत्तर भारत, मध्य भारत के पश्चिमी हिस्से और प्रायद्वीपीय भारत के दक्षिणी हिस्से के साथ-साथ उत्तरी भारत के ज्यादातर भागों में रात का तापमान भी सामान्य से अधिक रहने का अनुमान है।

मौसम विभाग ने कहा है कि विषुवतीय प्रशांत क्षेत्र के ऊपर मध्यम ‘ला नीना’ की स्थिति बनी हुई है। वहीं, मध्य एवं पूर्वी विषुवतीय प्रशांत सागर के ऊपर समुद्री सतह का तामपान सामान्य से नीचे है। आईएमडी अब अप्रैल से जून तक के लिए दूसरा ग्रीष्मकाल पूर्वानुमान अप्रैल में जारी करेगा।

जनवरी में रिकॉर्ड गर्मी
देश में इस साल जनवरी में रिकॉर्ड किया गया न्यूनतम तापमान पिछले 62 वर्षों में सबसे ज्यादा था। मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण भारत में जनवरी के दौरान मौसम विशेष रूप से गर्म रहा। दक्षिण भारत में जनवरी माह में दर्ज किया गया न्यूनतम तापमान 22.33 डिग्री सेल्सियस रहा जो 121 वर्षों में सबसे गर्म था। यही नहीं मध्‍य भारत में भी जनवरी महीने में न्यूनतम तापमान 14.82 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो बीते 38 वर्षों में सबसे गर्म रहा।

ये भी पढेंः खबरें हटके

big news