बडे संकट में ये 7 राज्य, रहना होगा सावधान, तेजी से बढ़ रहे कोरोना के नए मामले

नई दिल्ली: देश में एक बार फिर से कोरोना वायरस (Corona Virus) का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। महाराष्ट्र और केरल में तेजी से कोविड-19 के मामले सामने आए हैं। जिसने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। इस बीच भारत के कुछ अन्य राज्यों में भी कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है। देश के 36 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में से 16 में बीते हफ्ते कोविड के मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है।

7-8 राज्यों में स्थिति गंभीर
भले ही ये बढ़ोत्तरी मामूली रही लेकिन इससे सरकार सतर्क हो चुकी हैं। कई राज्यों ने सीमा पर अलर्ट जारी कर दिया है। बीते हफ्ते के मामलों पर गौर किया जाए तो करीब 7-8 राज्यों में स्थिति गंभीर होती जा रही है। अकेले महाराष्ट्र की बात की जाए तो राज्य में बीते हफ्ते नए मामलों में 81 फीसदी की वृद्धि दर्ज हुई है।

किन राज्यों में कितनी बढ़ोत्तरी
वहीं, मध्य प्रदेश में 43 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई है। जबकि पंजाब में 31 प्रतिशत, जम्मू-कश्मीर में 22 फीसदी, छत्तीसगढ़ में 13 प्रतिशत, हरियाणा 11 फीसदी और चंडीगढ़ में 43 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई है। दूसरी ओर कर्नाटक और गुजरात में मामूली वृद्धि दर्ज हुई है। दोनों राज्यों में 4.6 फीसदी और चार फीसदी बढ़ोत्तरी देखी गई है।

मुख्यमंत्री ठाकरे ने बुलाई आपात बैठक
मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, पंजाब और मध्य प्रदेश में रोजाना मामलों में बढ़ोत्तरी होने की वजह से कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। वहीं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए आपात बैठक बुलाई है। इस बैठक में बीएमसी और प्रशासनिक अफसर मौजूद रहेंगे। माना जा रहा है कि कोरोना के प्रसार को कम करने के लिए मीटिंग में कुछ बड़े फैसले ले सकते हैं।

उत्तराखंड में कोरोना टेस्ट अनिवार्य
दूसरी ओर उत्तराखंड सरकार ने महाराष्ट्र, केरल, छत्तीसगढ़, गुजरात और मध्य प्रदेश से आने वाले लोगों का कोरोना टेस्ट कराने का फैसला किया है। जिसके लिए प्रदेश के सभी रेलवे स्टेशन और एयरपोर्ट्स पर खास इंतजाम किए गए हैं। सरकार ने इस नियम को सभी के लिए अनिवार्य कर दिया है।

यहां कोरोना टेस्ट में निगेटिव होना जरूरी
कर्नाटक में केरल और महाराष्ट्र से आने वाले लोगों के लिए कोरोना टेस्ट में निगेटिव होना जरूरी होगा। निगेटिव होने का यह प्रमाणपत्र 72 घंटे से ज्यादा पुराना नहीं होना चाहिए। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री के सुधाकर ने कहा कि अगर मामलों में वृद्धि हुई तो सख्त कदम उठाए जाएंगे। इसके अलावा शादी समारोह में अब केवल 500 लोग शामिल हो सकेंगे। आयोजनों में कोरोना के नियमों का पालन सुनिश्चित करने के लिए मार्शल तैनात किए जाएंगे।

ये भी पढेंः खबरें हटके

big news