पाकिस्तान में फिर होगा तख्तापलट? कोरोना ने सेना को दिया….

नई दिल्ली। पाकिस्तान में कोरोना का कहर प्रधानमंत्री इमरान खान के लिए मुसीबत का सबब बनता जा रहा है। कोरोना वायरस संकट ने इमरान खान की सत्ता की कुर्सी को डगमगा दिया है, जिससे एक बार फिर पाकिस्तान में तख्तापलट की संभावना बढ़ गई है। दरअसल, पाकस्तान में कोरोना वायरस से निपटने के प्रयासों में इमरान खान की विफलता ने पाकिस्तान आर्मी को उन पर हावी होने का मौका दे दिया है और अब सेना के सामने इमरान की एक भी नहीं चल पा रही है। बता दें कि पाकिस्तान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 12500 हो गई है।

दरअसल, उस वक्त इमरान खान की कुर्सी पर संकट के बादल और गहरा गए, जब इमरान खान के पाकिस्तान में लॉकडाउन नहीं करने के फैसले को फौज ने पलट कर रख दिया था। 22 मार्च को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के नाम अपने संबोधन में देशव्यापी लॉकडाउन न करने के कारणों को बताया था। इमरान खान ने कहा था कि ऐसा करने पर लाखों लोग अपनी नौकरी खो देंगे और उन परिवारों को और ज्यादा प्रभावित करेंगे, जो गरीबी रेखा से नीचे हैं, जो भूख मिटाने के लिए पर्याप्त भोजन पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। मगर महज 24 घंटे के भीतर ही पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल बाबर इफ्तिखार ने इमरान खान के फैसलों को पलटते हुए पाकिस्तान में लॉकडाउन की घोषणा कर दी।

जैसे ही पाकिस्तान में लॉकडाउन का ऐलान हो गया, पूरे देश में सेना की तैनाती कर दी गई और अब सेना राष्ट्रीय कोर समिति के माध्यम से कोविड-19 से निपटने के लिए उपायों पर दिशा-निर्देश जारी कर रही है। फाइनेंशियल टाइम्स ने एक अनाम रिटायर्ड जनरल के हवाले से कहा कि इमरान सरकार कोरोना वायरस को संभालने में एक तरह से नाकामयाब रही है। इमरान खान ने कोरोना से जंग में एक बड़ा गैप बना दिया, यही वजह है कि सेना ने उस अंतर को भरने की कोशिश की है। इसके अलावा, कोई विकल्प नहीं था।

कोरोना बना सेना के लिए मौका

कोरोना संकट ने एक बार फिर से पाकिस्तान में यह सवाल पैदा कर दिया है कि आखिर फैसले अब कौन ले रहा है, सेना या साल 2018 में सत्ता में आए इमरान खान। बता दें कि सेना के सहयोग से ही इमरान खान सत्ता में आए थे। सैन्यबलों ने कोरोना वायरस के इस संकट को एक अवसर के रूप में लिया है, जो इमरान खान की क्षमताओं पर सवाल खड़े कर रही है। इससे पहले इमरान खान के युवाओं को आगे आने और कोरोना रिलीफ टाइगर्स फोर्स में शामिल होने की अपील की थी, जिस पर उनका काफी मजाक उड़ा था।

विश्लेषकों का मानना है कि कोरोना वायरस पर कुछ कारगर न कर पाना जनरलों की नजर में इमरान खान के लिए एक और नीतिगत विफलता है। इसके अलावा, 67 वर्षीय क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान कश्मीर के मुद्दे पर बार-बार विश्व समुदाय का ध्यान खिंचने में नाकाम रहे हैं और अपने देश को आतंकी फंडिंग के लिए ‘ग्रे लिस्ट’ से निकालने में फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) को समझाने में भी वह संघर्ष करते रहे हैं।

विपक्षी पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के एक सांसद नफीसा शाह का कहना है कि आपातकाल के समय में किसी को स्पष्ट निर्णय लेना होता है। पूरी दुनिया मजबूत लॉकडाउन की सलाह दे रही है। अगर प्रधानमंत्री यह नहीं दिखाते हैं कि वह निर्णाय लेना वाले हैं, तो जाहिर है कोई और करेगा। बता दें कि कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या पाकिस्तान में 12,657 पहुंच गई है और अब तक 265 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 2755 लोग इससे ठीक हो चुके हैं।

loading…