कल जो होने वाला है, उसे देश नहीं भूलेगा!

नई दिल्ली। पिछले दिनों में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। हालात ये हैं कि एक के बाद एक रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं। इसकी वजह से देश में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से 1 लाख के स्तर की ओर बढ़ रहे हैं। रविवार को करीब 5000 नए मामले सामने आए, जो एक दिन का सबसे बड़ा रिकॉर्ड बन गया। इसके साथ ही कोरोना वायरस के संक्रमण का आंकड़ा 96 हजार के करीब जा पहुंचा। यही हालात रहे तो आज का दिन खत्म होने तक देश में कोरोना संक्रमण के मामले 1 लाख का स्तर छू लेंगे और यह दिन देश कभी नहीं भूलेगा।

रविवार को कोरोना वायरस के 5005 नए मामले सामने आए, जो एक दिन में सबसे अधिक मामले आने का रिकॉर्ड है। जिसके बाद देश में कोरोना संक्रमितों को संख्या 95,679 पर जा पहुंची है। पिछले कुछ दिनों में रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं, जो लोगों को डरा रहे हैं।

शनिवार को कोरोना संक्रमण के 4,885 मामले सामने आए, जो एक दिन में सबसे अधिक मामलों का रिकॉर्ड था। इससे पहले शुक्रवार को कोरोना वायरस के कुल 3787 मामले सामने आए थे, जिसकी वजह से भारत में कोरोना संक्रमण के मामले चीन से भी अधिक (84,031) हो गए। ये लगातार छठा दिन था, जब भारत में कोरोना के मामले 3500 से अधिक आए। उसके बाद तो मामलों से सारे रिकॉर्ड ही तोड़ दिए। यानी ये कहना गलत नहीं होगा कि पिछले 8 दिनों में कोरोना वायरस के मामले 3500 से अधिक ही रहे हैं। अगर आज यानी सोमवार को करीब 4300 कोरोना वायरस मामले सामने आ जाते हैं तो संक्रमण का आंकड़ा 1 लाख का स्तर पार कर लेगा। बेशक कोई ऐसा नहीं चाहेगा, लेकिन पिछले दो दिनों के मामले देखते हुए डर तो लग ही रहा है।

देश में लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंसिंग सब हो रही है, लेकिन कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। इसकी एक बड़ी वजह लॉकडाउन 3.0 में दी गई रियायतें हो सकती हैं। इसके तहत देश में दुकानें खोली गईं, लोगों को एक निश्चित समय में घरों से निकलने की आजादी दी गई, क्योंकि दुकानें बंद होने से इकनॉमिक एक्टिविटीज़ रुक गई थीं, जिससे लोगों के भूखे मरने की नौबत आ गई थी। वहीं दूसरी ओर, लॉकडाउन की शुरुआत से अब तक लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घरों को पलायन कर रहे हैं, जिनमें से बहुत सारे लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी नहीं कर रहे हैं।

loading…