अभी-अभीः सरकार का बडा ऐलान, 15 जून से खुलेंगे स्कूल

नई दिल्ली गंगटोक। कोरोना संकट के बीच सिक्किम सरकार ने 15 जून से स्कूल और शिक्षण संस्थान खोलने का फैसला किया है। कोरोना मुक्त सिक्किम स्कूल खोलने वाला देश का पहला राज्य होगा। राज्य के शिक्षा मंत्री कुंगा नीमा लेपचा ने बताया कि यह फैसला बड़ी कक्षाओं और बोर्ड परीक्षाओं के महत्व को देखते हुए लिया गया है। उधर, पूरे देश में जुलाई से स्कूल-कॉलेज खुलने की संभावना जताई जा रही है।
सिक्किम के शिक्षा मंत्री कुंगा नीमा लेपचा ने बताया, ’हम सभी स्कूल और कॉलेज 15 जून से दोबारा खोल रहे हैं। हम नौंवी से 12वीं के साथ स्कूल शुरू करेंगे जबकि नर्सरी से आठवीं तक की क्लासेस अभी रद्द रहेंगी। सोशल डिस्टेंसिंग को देखते हुए स्कूलों में सुबह की प्रार्थना की इजाजत नहीं है।’ उन्होंने बताया कि आठवीं तक कक्षाएं अगले आदेश तक रद्द रहेंगी। बाकी क्लासेस के लिए सिक्किम में ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था भी जारी रहेगी। शिक्षा मंत्री ने बताया कि सालाना परीक्षाएं फरवरी 2021 तक के लिए टाल दी गई हैं, जिससे अध्ययन पर ज्यादा ध्यान दिया जा सके। इसी के साथ शनिवार को भी स्कूल खोले जाएंगे। कॉलेज और यूनिवर्सिटी में दो शिफ्टों में चलेंगी। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य सुरक्षा मानकों का पालन करना जरूरी होगा।
वैश्विक महामारी कोविड-19 के लॉकडाउन के बाद जुलाई में स्कूल और कॉलेज खुल सकते हैं। हालांकि शिक्षण संस्थान खुलने पर प्राइमरी कक्षा तक के छात्रों के स्कूल आने पर रोक संभव है। दरअसल छोटे बच्चों को सामाजिक दूरी के साथ स्कूल परिसर में एक साथ संभालना थोड़ा मुश्किल है। इसीलिए शिक्षण संस्थान बड़ी कक्षाओं (आठवीं से 12वीं कक्षा) के छात्रों के साथ खुल सकते हैं। शिक्षण संस्थानों को खोलने और दाखिला प्रवेश परीक्षा से लेकर बोर्ड परीक्षा से ठीक पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय के निर्देशों के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सेफ्टी गाइडलाइन तैयार कर ली हैं। इसमें स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी को लेकर अलग-अलग गाइडलाइन होगी। उम्मीद है कि मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक अगले हफ्ते तक इस सेफ्टी गाइडलाइन को जारी कर सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक, प्राइमरी कक्षा को फिलहाल कोरोना बचाव के तहत हालात ठीक होने तक घर से काम करने को दिया जाएगा। इसमें शिक्षक प्रतिदिन अभिभावाकों को प्रैक्टिकल वर्क होम वर्क के रूप में देंगे। इसमें छात्रों की क्रिएटिविटी पर जोर दिया जाएगा। मंत्रालय द्वारा जारी होने वाली सेफ्टी गाइडलाइन को राज्य सरकारें उसमें आगे अपने आधार पर थोड़ा बहुत बदलाव कर सकेंगी।
स्कूलों में थर्मल स्कैनर लगेंगे। संस्थान खोलने से पहले शिक्षकों को थर्मल स्कैनर प्रयोग करने, सामाजिक दूरी के साथ छात्रों को रहने, बैठने, खाने आदि को सीखाने की बाकायदा ट्रेनिंग भी दी जाएगी। कक्षा में एक बेंच पर एक छात्र ही बैठेगा या फिर तीन वाले सीटिंग प्लान में बीच की सीट खाली रहेगी। बड़ी कक्षाओं के छात्र से लेकर शिक्षक या कर्मी हर कोई मॉस्क,दस्ताने पहनकर आएगा। कैंटीन, कॉरिडोर, कक्षा, लाइब्रेरी से लेकर टॉयलेट रूम के बाहर भी कोरोना बचाव की गाइडलाइन लगी होंगी। सीसीटीवी से छात्रों की सामाजिक दूरी के नियमों को जांचा-परखा जाएगा। संबंधित एरिया के एसडीएम और डीएम को औचक्क निरीक्षण के साथ-साथ गाइडलाइन को पूरा करवाने की जिम्मेदारी होगी। ऐसे ही स्कूल बस में भी एक सीट पर एक छात्र ही बैठेगा। दो शिफ्ट के साथ ऑड-ईवन रोल नंबर के साथ छात्रों को बुलाने की भी योजना संभव है। हर दिन कक्षाओं, बस और स्कूल परिसर को संक्रमणमुक्त करना अनिवार्य होगा।
सीबीएसई बोर्ड से मान्यता प्राप्त स्कूलों, केंद्रीय विद्यालय, जवाहर नवोदय से लेकर, एनसीईआरटी पाठ्यक्रम व किताबों से पढ़ाई करवाने वाले राज्यों के स्कूलों में भी 2020 सत्र में पाठ्यक्रम में बदलाव होगा। कोरोना लॉकडाउन के चलते पढ़ाई का नुकसान पूरा करने के लिए सीबीएसई पाठ्यक्रम को कम करने की तैयारी कर रहा है। हालांकि कितना पाठ्यक्रम कम होगा, इस पर अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है।  

loading…