• मुलायम-अखिलेश की जंग के बीच आजम ने पकडी तीसरी राह!

    item-thumbnail  लखनऊ। समाजवादी पार्टी में चल रहे अंदरूनी घमासान में कुछ नेता ऐसे भी हैं जो यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि उन्हें किस तरफ होना चाहिए। ऐसे नेताओं में सबसे प्रमुख नाम है यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान का। बाप-बेटे यानी मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच सुलह कराने की आजम खान की कोशिशें अभी तक परवान नहीं चढ़ी हैं, ऐसे में लाख टके का सवाल यह है कि अगर मुलायम और अखिलेश खेमा अलग-अलग चुनाव लड़ते हैं तो आजम कौन सा खेमा चुनना पसंद करेंगे। माना जा रहा है कि इसी दुविधा में फंसे आजम निर्दलीय चुनाव लड़ सकते हैं।
     पिछले दिनों यह चर्चा भी थी कि मुलायम खेमा आजम खान को अपना सीएम फेस बना सकता है, लेकिन इसके राजनीतिक परिणामों से मुलायम भी वाकिफ हैं और आजम भी, ऐसे में यह निर्णय होना बहुत आसान नहीं होगा। उस पर मुलायम का बार-बार बदलता रुख और अखिलेश के प्रति नरम रवैया भी आजम को कन्फ्यूज कर रहा है कि आखिर वह क्या करें।
     शुरुआती दिनों में आजम खान मुलायम के बेहद नजदीकी थे और अखिलेश को बिल्कुल बच्चा ही समझते थे। बाद के दिनों में जब अमर सिंह की मुलायम कैंप में दोबारा एंट्री हुई तो आजम अखिलेश की तारीफ में जुट गए। अब चूंकि दो खेमे बंट गए हैं और पूरी संभावना है कि दोनों अलग-अलग उम्मीदवार उतारेंगे, उसमें आजम खां को लेकर कहा जा रहा है कि वह निर्दलीय पर्चा भर सकते हैं। चूंकि अखिलेश और मुलायम दोनों खेमों में उनकी छवि अच्छी है, उन्होंने झगड़ा सुलझाने की कोशिश भी, ऐसे में दोनों खेमे उनको समर्थन का ऐलान कर सकते हैं। बेटे को लेकर उनका क्या फैसला होगा, यह पहेली ही बना हुआ है।



    Last Updated On: 2017-01-12 11:42:13