• इस नदी में मौजूद हजारों शिवलिंग का राज कोई नहीं जानता

    item-thumbnail  नई दिल्ली। दुनिया में प्रकृति के ऐसे कई अजूबे हैं जिन पर भरोसा करना थोड़ा मुश्किल होता है। भारत में भी ऐसे कई अजूबे मौजूद हैं जिनमें से एक है कर्नाटक के कन्नडा जिले का सहस्त्रलिंगा। आपको बता दें कि यहां बहने वाली शामला नदी में प्राकृतिक तौर पर ही हज़ारों की संख्या में शिवलिंग पाए जाते हैं।

     कर्नाटक की शामला नदी को यहां के लोग गंगा की तरह पवित्र नदी मानते हैं। इस नदी में सिर्फ शिवलिंग ही नहीं बल्कि कई अन्य तरह की कलाकृतियां भी दिखाई देती हैं। विज्ञानियों के मुताबिक नदी के पानी की धारा से ये शिवलिंग और अन्य आकृतियां अस्तित्व में आई हैं। बता दें कि गर्मियों में जब पानी का लेवल कम होने लगता है तो नदी का नज़ारा देखने लायक होता है।

     लोगों की मान्यता है कि इन शिवलिंगों का निर्माण राजा सदाएश्वर्य ने 17वीं शताब्दी में कराया था। बता दें कि ऐसे ही कुछ शिवलिंग दक्षिण एशियाई देश कंबोडिया के मशहूर मंदिर अंगकोर वाट में भी देखने को मिलते हैं, जिसे केब्ल स्पीन के नाम से जाना जाता है। इसका मतलब होता “मुंडों का पुल” है। इसके अलावा यहां पर कई अन्य कलाकृतियां भी हैं, इनमें से किसी पर बंदर और बत्तख के बीच महिला है, तो कहीं ब्रह्मा जी हैं।



    Last Updated On: 18-11-16 08:15:37