• दिल के मरीज भी खा सकते हैं देशी घी लेकिन...

    item-thumbnail
     यूं तो आपने अक्सर सुना होगा कि घी खाएंगे तो मोटे हो जाएंगे. लेकिन ये अब एक मिथ है. डॉक्टर्स भी अब एक लिमिट में घी खाने की परमिशन देते हैं. वैसे भी रसोईघर में घी से हर सब्जी में तड़का लगता है. इसके अलावा खाने का स्वाद बढ़ाने में भी घी का बहुत इस्तेमाल होता है. लेकिन घी खाने के असल फायदे क्या हैं बता रही हैं डॉ. शिखा शर्मा. चलिए जानते हैं घी खाने से आप किन समस्याओं से निजात पा सकते हैं.
     घी के फायदे- घी जब हम खाते हैं तो वो हमारे भीतर जाकर रूट कोज को ठीक करता है और जब हम भीतर से हेल्दी हो जाते हैं तो इम्यून सिस्टम स्ट्रांग होने लगता है. हड्डियों में कैल्शियम अच्छा होता है और त्वचा में ग्लो‍ आता है. सही मायने में हम हेल्दी हो जाते हैं.
     सीमित मात्रा में घी का सेवन- घी को एक औषधी की तरह थोड़ी ही मात्रा में खाना चाहिए. घी में पकौड़े या पूरी तलना गलत है. देसी घी को सीमित मात्रा में खाया जाए तो इसका बहुत फायदा होता है.
     ऊर्जा बढ़ाता है घी- दाल खा रहे हैं तो उसमें हल्का सा घी डाल लें. ऐसे घी खाना बहुत फायदेमंद है. दरअसल घी में ऐसे तत्व होते हैं जो हमारी ऊर्जा बढ़ाते हैं.
     पंचकर्मा ट्रीटमेंट में घी- जो लोग लंबे समय से बीमार हो और उनका पंचकर्मा ट्रीटमेंट किया जाए तो आखिरी दिन खिचड़ी में इन्हें घी डालकर खिलाना चाहिए. इससे इनमें ऊर्जा वापिस आएगी और इम्यून सिस्टम बढ़ेगा.
     घी में आयुर्वेद दवाएं- घी ऐसा माध्यम है जो दवाई को भीतर तक ले जाता है. कई आयुर्वेद दवाएं घी में मिलाकर ही दी जाती हैं.
     बच्चों के लिए घी- बच्चों के लिए घी बहुत फायदेमंद है क्योंकि ये बच्चों के नर्व्स सिसटम के डवलपमेंट में बहुत मदद करता है. दो साल से कम बच्चों को डायट में थोड़ा-थोड़ा घी देना शुरू कर देना चाहिए. इनको घी खिचड़ी या दलिए में डालकर दिया जा सकता है.
     हार्ट पेशेंट के लिए घी- घी के ऑयल जिसे सैचुरेटिड ऑयल भी कहा जाता है ये हार्ट पेशेंट को नहीं दिया जाता लेकिन हार्ट पेशेंट बाकी ऑयल ना लें तो उन्हें दवा के रूप में थोड़ा सा घी दिया जा सकता है. तो इसके इनको लाभ मिलेगा.



    Last Updated On: 02-12-16 10:22:59